meerut: शराब की बोतल टूटने की इतनी बड़ी सजा, जानकर पैरों तले सेखिसक जाएगी जमीन, आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार

पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद खुली फूफा की करतूत, पुलिस की सख्ती से खुद ही कबूल किया जुर्म

0
188

meerut: एक शराबी फूफा ने शराब की बोतल टूटने की मासूम को इतनी बड़ी सजा दे डाली की पैरों तले से जमीन ही खिसक जाए। जी हां नशे के आदि फूफा ने महज एक शराब की बोतल के लिए बच्चे को पीट-पीटकर मौत के घाट उतार दिया। चीख-पुकार सुनकर किसी ने 112 नंबर पर फोन कर पुलिस को सूचना दी। सूचना पर पहुंची पुलिस ने शव का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पीएम रिपोर्ट में जल्लाद फूफा की करतूत सामने आ गई। जिसके बाद पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

UP को मिलेंगे 28 निजी विश्वविद्यालय और 51 राजकीय महाविद्यालय: उपमुख्यमंत्री

मामला रोहटा थाना क्षेत्र की है। जहां 8 साल के मासूम वासु को उसकी बुआ खुजली के इलाज के लिए अपने घर ले आई थी। खेत में ट्यूबवेल पर फूफा बच्चे को अपने साथ ले गए थे। जहां फूफा ने जैसे ही शराब की महफिल सजाई तभी मासूम बच्चे से खेलते हुए शराब की बोतल गिर गई। बस यही बात आरोपी फूफा को नागवार गुजरी। शराबी फूफा ने बच्चे को जमकर पीटा और बाद में उसका गला दबाकर हत्या कर दी।
meerut: स्कॅालरशिप के लिए 21 जनवरी तक करें आवेदन, समाज कल्याण ने जारी की सशोंधित समय-सारणी

बनाई कहानी

जघन्य अपराध करने के बाद फूफा रविन्द्र ने पुलिस से बचाव के लिये कहानी गढना शुरु कर दिया। उसने परिजनों को पहले बच्चे की होदी में डूबकर मौत होना बताया, लेकिन जब उसके झूठ नहीं छिपा तो उसने बच्चे की करंट से मौत होना बताया, लेकिन झूठ के पैर नहीं होते जल्द ही सारी पिक्चर सभी के सामने आ गई। परिजनों को आरोपी फूफा की करतूत पर शक होने लगा। बच्चे का पोस्टमार्टम होते ही पूरी कहानी सामने आ गई।

meerut: स्कॅालरशिप के लिए 21 जनवरी तक करें आवेदन, समाज कल्याण ने जारी की सशोंधित समय-सारणी

पुलिस की सख्ती पर कबूला जुल्म

पोस्टमार्टम रिपोर्ट की माने तो बच्चे की गला दबाने से हत्या हुई है। पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की तो रविंद्र ने पूरी हकीकत बयान कर दी। थाना रोहटा पुलिस ने आरोपी रविंद्र को गिरफ्तार कर लिया। वही अब उसे जेल भेजने की तैयारी की जा रही है। वहीं आठ वर्षीय बच्चे की मौत से परिजनों में कोहराम मच गया। बच्चे की मां का रो-रोकर बुरा हाल था। उसकी जुबान पर एक ही शब्द था कि काश वह अपने वासु का इलाज अपने घर ही करा लेती तो ये दिन देखने को न मिलता।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here