परशुराम सेना ने उठाई परशुराम मंदिर निर्माण की आवाज, उमेश बने समिति संघर्ष के संरक्षक

परशुराम सेना ने उठाई हस्तिनापुर में परशुराम मंदिर की मांग, मंदिर समिति संघर्ष का किया गठन

0
336

मेरठ। अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की नींव पड़ने के बाद से उत्तर प्रदेश में भगवान परशुराम मंदिर निर्माण की मांग उठने लगी है। यही वजह है​ कि ब्राहृमण संगठनों ने समाज के लोगों को लामबंद करना शुरू कर दिया है। इस क्रम में मेरठ मंडल में सक्रिय राष्ट्रीय परशुराम सेना ने सरकार से ऐतिहासिक नगरी हस्तिनापुर में परशुराम मंदिर के निर्माण की मांग की है। इसके साथ ही संगठन ने ‘भगवान परशुराम मंदिर संघर्ष समिति’ का भी गठन किया, जिसका संरक्षक पंडित उमेश शर्मा को सर्व सहमति चुना गया।

Coronavirus का कहर जारी, उत्तर प्रदेश में 4 सितंबर से शुरू होगा Sero survey

 

प्रदेश में गुंडाराज कायमः अतुल प्रधान, बढते क्राइम को लेकर समाजवादियों ने किया प्रदर्शन

इस दौरान राष्ट्रीय परशुराम सेना के अध्यक्ष उमेश शर्मा ने कहा कि मंदिर समिति संघर्ष करते हुए महाभारतकालीन नगरी हस्तिनापुर में भगवान परशुराम मंदिर निर्माण की मांग उठाएगी। श्री शर्मा ने कहा कि जिस तरह से अयोध्या में श्रीराम मंदिर के भव्य मंदिर निर्माण की शुरुआत की गई है, उसकी तर्ज पर भगवान परशुराम मंदिर का भी निर्माण किया जाना चाहिए।

 Agra में हुए तीहरे हत्याकांड से मचा कोहराम, घर में सोते हुए दंपति और बेटे की हत्या, शवों को जलाने की भी कोशिश

सुशांत सिंह केस : अंकिता ने खारिज किए रिया के दावे, कहा बेबुनियाद हैं सब

वहीं, पंडित ऋषिपाल शर्मा बिराना ने कहा कि परशुराम वंशज सरकार बनाने में अभी निर्णायक भूमिका निभाते हैं, अब देखना यह होगा कि सरकार हमारी आवाज सुनती है या नहीं। उन्होंने भगवान परशुराम के सभी वंशजों से एकजुट होकर मिति का सहयोग करने की अपील की है। इस मौके पर कृष्ण कुमार शर्मा, राम अवतार शर्मा, वेदप्रकाश शर्मा, अमित शर्मा, रजनीश बना, राजकुमार शर्मा किला, मांगेराम शर्मा व दिनेश शर्मा आदि मौजूद रहे।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here