सास ने 10 लाख रुपये की सुपारी देकर कराया था दामाद का कत्ल, एक प्रेम कहानी का ऐसे हुआ अंत

आगरा में वकील हत्याकांड का खुलासा पुलिस ने कर दिया है। हत्याकांड की मुख्य आरोपी वकील की सास शिमला पंवार समेत दो सुपारी किलर भी गिरफ्तार हुए हैं। सास ने दामाद की हत्या संपत्ति विवाद में करवाई।

0
242

आगरा। वकील कपिल पंवार उर्फ यश (Advocate Murder Case) की हत्या उसकी ही सास शिमला पंवार ने तीन से चार करोड़ की संपत्ति के लिए ​दस लाख रुपये की सुपारी (Supari Murdered) देकर कराई थी। तीन बदमाशों ने वकील का कत्ल किया था। संपत्ति वकील की इंस्पेक्टर रही दिवंगत पत्नी ममता पंवार (Inspector Wife) और सास के नाम है। वकील कपिल इसे अपने नाम करा रहे थे। सुपारी किलर जीतू यादव, राहुल और अनवर ने अंडे की भुजी में ​नशा देकर वकील को बेहोश किया और ​फिर कार में सीट बेल्ट से गला घोंटकर हत्या कर दी। इसके बाद शव को इटावा की भरथना ​में नहर में फेंक आए थे। पुलिस ने शिमला, राहुल और ​अनवर को गिरफ्तार कर हत्याकांड का खुलासा किया।

यह भी पढ़ें: CCSU Meerut: इस तारीख से शुरू होगी कालेजों में पढ़ाई, विश्वविद्यालय ने कर ली पूरी तैयारी

हत्यारोपी शिमला पंवार ने पुलिस पूछताछ में कहा कि कपिल को वह कभी दामाद के रूप में स्वीकार ही नहीं कर पाई। वह अलग जाति का था, बेटी ममता ने अपनी मर्जी से दूसरी जाति में शादी की थी। उसने उसे पति मान लिया लेकिन परिवार में कोई और उसे स्वीकार नहीं कर पाया। हापुड़ के गांव असौड़ा निवासी वकील कपिल पंवार उर्फ यश (45) की हत्या उनकी सास शिमला पंवार ने तीन-चार करोड़ की संपत्ति के लिए दस लाख रुपये में तीन सुपारी किलर से कराई थी। संपत्ति वकील की इंस्पेक्टर रही दिवंगत पत्नी ममता पंवार और सास के नाम है। इसे कपिल अपने नाम करा रहे थे। सुपारी किलर जीतू यादव, राहुल और अनवर ने अंडे की भुर्जी में नशा देकर वकील को बेहोश करने के बाद कार में सीट बेल्ट से गला घोंटकर हत्या की। इसके बाद लाश को इटावा के भरतना में नहर में फेंक आए थे। पुलिस ने शिमला, राहुल और अनवर की गिरफ्तारी के बाद हत्याकांड के खुलासे का दावा किया है।

यह भी पढ़ें: दंपती की Corona Report पॉजिटिव आने पर घर में ताला लगाकर फरार, पुलिस ने दर्ज की FIR

हत्यारोपी शिमला पंवार ने बताया कि ममता 2003-04 में दिल्ली में सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी कर रही थी। कपिल भी इसी परीक्षा की तैयारी के लिए दिल्ली में था। वहीं पर दोनों की दोस्ती हुई। ममता यूपी पुलिस में दरोगा हो गई। कपिल मेरठ में कोर्ट में पेशकार हो गया। इसके बाद दोनों ने शादी कर ली। 2006 में ममता की पोस्टिंग आगरा में हुई। उन्होंने कहा कि अलग-अलग रहने से परेशानी होगी। इस पर कपिल नौकरी छोड़कर आगरा आ गए और कचहरी में प्रेक्टिस करने लगे। इसके बाद ममता प्रमोशन पाकर इंस्पेक्टर हो गई। कपिल ने यह नाम शादी के बाद रखा था। उसका नाम यशवीर सैनी था। ममता पंवार से शादी के बाद उसने अपना नाम कपिल पंवार उर्फ यश कर लिया था। इसके बाद भी ममता के परिवार वालों ने काफी दिनों तक कपिल से संबंध नहीं रखा। ममता के कहने पर वह (शिमला) उनके पास आने लगीं। वह कई महीने साथ ही रहती थीं। पिछले साल ब्रेन हेमरेज से ममता पंवार की मौत हो गई। इससे सास-दामाद के रिश्ते और बिगड़ गए। सास को लगा कि कपिल सारी संपत्ति अपने नाम करा लेगा। वह उसी के पास आकर रहने लगी। कपिल की मां निर्मला देवी का रो-रोकर हाल बेहाल है। उनका कहना है कि कभी सपने में भी नहीं सोचा था कि  कपिल की सास उसके साथ ऐसा करेगी। बेटे को जरूर कुछ शक हो गया था, तभी उसने उन्हें यहां बुलाया था। वह दस दिन पहले ही आई थीं।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here