लखनऊ। बसपा सुप्रीमो मायावती (Mayawati) के कभी करीबी रहे पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय (Ramveer Upadhyay) के बेटे चिरागवीर उपाध्याय (Chirag Veer Upadhyay) ने गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी (BJP) का दामन थाम लिया है। पिछले कई दिनों से इसे लेकर चर्चाएं चल रही थीं, जो आज फलीभूत हुई। लखनऊ (Lucknow)  स्थित भाजपा कार्यालय में ​पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह (Swatantra Dev Singh) के समक्ष भाजपा की सदस्यता (Join BJP) ग्रहण की। कार्यक्रम का संचालन प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण शुक्ल ने किया। चिरागवीर उपाध्याय के साथ भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के समय पूर्वांचल के ​कई लोग उपस्थित​ रहे। मुख्य रुप से पूर्व ऊर्जा मंत्री रामवीर उपाध्याय के बेहद करीबी माने जाने वाले रानू पंडित के साथ नरेश पोडवाल, फरहान उस्मानी, अब्दुल रहमानी, राठौर क्षत्रिय समा के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश राठौर, बसपा नेता कुलदीप पांडे, जलज तिवारी समेत काफी लोग मौजूद रहे।

 

यह भी पढ़ें: CCSU Meerut: UG और PG में प्रवेश के लिए नहीं भर पायी सीटें, 5 अक्टूबर को आएगी पहली मेरिट लिस्ट

मायावती सरकार (Mayawati Government) में ऊर्जा मंत्री (Former Power Minester) रहे रामवीर उपाध्याय बसपा सुप्रीमो के बेहद करीबी नेताओं में से एक रहे हैं। उनके बेटे चिरागवीर उपाध्याय के भाजपा से जुड़ने से राजनीतिक गलियारों में कई मायने निकल रहे हैं। दरअसल, आगरा जनपद की सादाबाद विधान सभा सीट से विधायक और पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय बसपा में रहेंगे या नहीं, इस पर संशय बरकरार बना हुआ है। क्योंकि लोक सभा चुनाव 2019 (Lok Sabha Election 2019) से पहले मायावती ने रामवीर उपाध्याय को पार्टी से निलंबित कर दिया था। उन पर आरोप था कि आगरा, फतेहपुर सीकरी, अलीगढ़ आदि सीटों पर उन्होंने पार्टी प्रत्याशी का विरोध किया। साथ ही गुपचुप भाजपा को सर्मथन देने की चर्चाएं हुई थी। बसपा ने रामवीर को विधान सभा में मुख्य सचेतक के पद से भी हटा दिया था। तभी से उनकी भी भाजपा में शामिल होने की चर्चाएं लगातार चलती रहीं। पिछले दिनों ​रामवीर उपाध्याय ने सीएम योगी आदित्यनाथ से भी मुलाकात की थी। माना जा रहा है कि अगर रामवीर भी भाजपा के साथ जुड़ते हैं तो भाजपा के लिए ब्राह्मण कार्ड साबित हो सकते हैं। ऐसे में वेस्ट यूपी में रामवीर और उनके बेटे चिरागवीर भाजपा के लिए बड़े ब्राह्मण कार्ड साबित हो सकेंगे, क्योंकि रामवीर का कद क्षेत्र में काफी बड़ा है। हालांकि अभी रामवीर भाजपा से नहीं जुड़े हैंं, लेकिन चर्चाएं बहुत जोरों पर हैं।

यह भी पढ़ें: Baghpat में खेल के विवाद में पहलवान की हत्या, साथी गंभीर घायल, हमलावर अभी भी फरार

गुरुवार को लखनऊ में भाजपा की सदस्यता ग्रहण करने के बाद चिरागवीर उपाध्याय और उनके समर्थक बेहद खुश हैं। चिरागवीर का कहना है कि ​वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) और मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) की कार्यशैली से प्रभावित हैं। उन्होंने कहा कि मैं श्रीराम (Shri Ram) का भक्त हूं, उनकी सेवा करना चाहता हूं। मैं इस विचारधारा से जुड़कर देश की सेवा करना चाहता हूं। उन्होंने कहा कि भाजपा में अपनी बात रखने की आजादी है। चिरागवीर के भाजपा से जुड़ने के बाद रामवीर उपाध्याय को लेकर राजनीतिक हलकों में चर्चाएं शुरू हो गई हैं। अगर रामवीर भी भाजपा से जुड़ते हैं तो बसपा सुप्रीमो के लिए बड़ा झटका होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here