छात्रवृत्ति के लिए बना ये कड़ा नियम, बीच में छोड़ दी पढ़ाई तो मिली धनराशि करनी होगी वापस

यूपी शासन ने छात्रवृत्ति पाने वाले छात्र—छात्राओं के बीच में पढ़ाई छोड़ने पर छात्रवृत्ति नहीं मिलेगी, बल्कि पिछले साल की मिली छात्रवृत्ति धनराशि वापस करनी होगी। यह व्यवस्था इसी शैक्षिक सत्र से लागू होने जा रही है।

0
114

लखनऊ। अब पढ़ाई बीच में छोड़ देने वाले छात्र-छात्राओं की मुसीबत आने जा रही है। शासन ने छात्रवृत्ति को लेकर कड़े नियम कर दिए हैं। अब छात्रवृत्ति पाने के ​उद्देश्य से एडमिशन लेने वालों को पूरे साल पढ़ाई करनी होगी, अगर वे बीच में पढ़ाई छोड़ते हैं तो उन्हें पिछले साल दी गई छात्रवृत्ति की धनराशि वापस समाज कल्याण विभाग को देनी होगी। इस संबंध में यूपी के सभी जनपदों के समाज कल्याण विभाग को निर्देश जारी किए गए हैं।

यह भी पढ़ें: UP में एंटी रोमियो स्क्वायड ​फिर होगा प्रभावी, CM Yogi ने अफसरों को दिए ये कड़े निर्देश

समाज कल्याण के निदेशक बालकृष्ण त्रिपाठी ने वर्ष में 2020-21 के लिए यूपी के सभी जनपदों में इस संबंध में निर्देश भेजे हैं। साथ ही कहा गया है कि इस नियम को कड़ाई से लागू कराया जाए। नए संशोधनों में छात्रवृत्ति पाने वाले छात्रों के आधार नंबर भी अनिवार्य किए गए हैं। ऑनलाइन आवेदन पत्र में छात्रों द्वारा भरे गए आधार नंबर का सत्यापन होने के बाद ही आवेदन पत्र को बढ़ाया जाएगा। छात्रों के हाईस्कूल अंकपत्र में दिये गए नाम, पिता का नाम व जन्म तिथि के आधार पर ही आधार कार्ड बनवाया जाएगा।

यह भी पढ़ें: 1 अक्टूबर से स्मार्ट हो जाएगा परिवहन विभाग, वाहन स्वामी को कागज रखने की नहीं होगी जरुरत

यदि आधार कार्ड में छात्र का नाम, जन्म तिथि या आधार नंबर मिसमैच होगा तो आधार नंबर सत्यापन न होने के कारण आवेदन पत्र आगे नहीं बढ़ाया जाएगा। इसके लिए शिक्षण संस्थानों को निर्देश दिये गए हैं कि जिन छात्रों के आधार कार्ड नहीं है, उन्हें युद्ध स्तर पर बनवा लिया जाए। यह भी व्यवस्था की गई है कि जिला समाज कल्याण अधिकारी के साथ छात्रवृत्ति का कार्य देख रहे पटल सहायक के डिजिटल सिग्नेचर से संयुक्त रूप से मास्टर डाटा व अन्य डाटा को लॉक किया जाएगा।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here