बिजनौर। सोमवार की शाम को बिजनौर में कानपुर के बिकरू जैसा कांड होते बचा। बिकरू कांड के बाद डीजीपी ने पुलिस टीमों को ​दबिशें देने के दौरान अपनी पूरी तैयारी के साथ जाने की गाइडलाइन तैयार की थी, लेकिन जनपद पुलिस ऐसा नहीं कर रही हैं और दबिशों के दौरान बेहद लापरवाही बरत रही हैं। बुलंदशहर, मेरठ के किठौर के बाद बिजनौर के स्योहारा में बिकरू जैसा कांड होते-होते बच गया। सोमवार की शाम को शराब तस्करी करने वाले आरोपियों को पकड़ने गई पुलिस टीम ​पर तस्कारों ने धारदार हथियारों से हमला कर दिया। इसमें एक सिपाही घायल हो गया। इसके बाद मौके पर फोर्स बुलाया गया, लेकिन तब तक हमलावर फरार हो चुके थे।

यह भी पढ़ें: होमगार्ड की बेटी के साथ ​छेड़छाड़, घर में की खींचने की कोशिश, विरोध ​करने पर पिटाई

सोमवार की शाम को ​एसआई हेमेंद्र सिंह के नेतृत्व में पुलिस की टीम स्योहारा के गांव बेरखेड़ा के जंगल में ट्रैक्टर से शराब की तस्करी करने वालों को पकड़ने गई थी। पुलिस टीम ने ट्रैक्टर पर बैठे चालक तथा अन्य बेरखेड़ा निवासी सोनी, बुद्धि, काका को पकड़ने का प्रयास किया। जबाब में तीनों ने गाली बकते हुए पुलिस पर ही धारदार हथियारों से हमला कर दिया। जिसमें सिपाही दीपक पुण्डीर की कमर पर चोट आई। सिपाही चोट लगने से घायल होकर सड़क पर गिर गया।
हमलावर अपना ट्रैक्टर व शराब छोड़कर भाग गए।

यह भी पढ़ें: युवक ने सुसाइड करने से पहले बनाया वीडियो, लव मैरिज को हुए थे सिर्फ पांच महीने

एसआई की सूचना पर थाने से भारी पुलिस बल भेजा गया। जंगल में भागे शराब तस्करों की तलाश शुरू की गई, लेकिन पुलिस के हाथ कुछ नहीं लगा। घायल सिपाही को उपचार के लिए सीएचसी ले जाया गया। पुलिस ट्रैक्टर और शराब से भरी कैन थाने ले आई। थानाध्यक्ष नरेंद्र कुमार गौड़ का कहना है कि हमलावर तस्करों के विरुद्ध रिपोर्ट दर्ज की गई है। सिपाही का उपचार चल रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here