Bijnor में सरकारी गाड़ी नहर में गिरी, Roorkee की तहसीलदार समेत तीन की मौत, प्रशासन में मचा हड़कंप

बिजनौर ​में नजीबाबाद से चार किलोमीटर पहले बोलेरो नहर में गिरने से रुड़की की तहसीलदार सुनैना राणा के साथ अर्दली और ड्राइवर की मौत हो गई है। जिला प्रशासन देर रात तक ​नहर से शव खोजबीन में लगा रहा। तीनों के शव निकाल लिए गए हैं।

0
293

बिजनौर। नैनीताल से रुड़की वापस लौट रही रुड़की की तहसीलदार सुनैना राणा की सड़क दुर्घटना में दर्दनाक मौत हो गई है। वह सरकारी गाड़ी बोलेरो से शनिवार की देर रात लौट रही थी। हादसा उस वक्त हुआ जब उनकी गाड़ी पुलिया से गुजर रही थी। पुलिया की रेलिंग तोड़ती हुई गाड़ी नहर में जा गिरी। इसमें उनका अर्दली ओमपाल और ड्राइवर सुंदर सिंह भी था। तीनों की मौत से जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया। देर रात तक प्रशासन तीनों के शव निकालने में लगा रहा।

यह भी पढ़ें: रिटायर्ड हेड कांस्टेबल की बेटी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, हुआ कुछ ऐसा कि श्मशान घाट से शव पहुंच गया मोर्चरी

रुड़की की तहसीलदार सुनैना राणा अपने अर्दली और ड्राइवर के साथ सरकारी गाड़ी बोलेरो से नैनीताल से ​रुड़की लौट रही थी। नजीबाबाद से चार किलोमीटर पहले नहर पुलिया की रेलिंग को तोड़कर कार नहर में गिर गई। घटना के बाद प्रशासन में हड़कंप मच गया। जिलाधिकारी रमाकांत पांडेय, एसपी डॉ. धर्मवीर सिंह, एसडीएम बृजेश कुमार सिंह, सीओ प्रवीण कुमार सिंह घटनास्थल पर पहुंचे। काफी तलाश के बाद तीनों शवों को निकाला गया। वहीं क्रेन द्वारा कार को नहर से बाहर निकाला गया। मौके पर पहुंची पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।

यह भी पढ़ें: इस साल सिर्फ पांच दिन ही बजेगी शहनाई, फिर अप्रैल में ही आएगा शादी करने का मुहूर्त

हरिद्वार तहसीलदार आशीष कुमार और तहसीलदार प्रभारी कुंभ मनजीत सिंह ने बताया कि वह सभी नैनीताल में ट्रेनिंग करके वापस लौट रहे थे। उन्होंने बताया कि सुनैना राणा की सरकारी बोलेरो गाड़ी सबसे पीछे थी। रात करीब 10 बजे सुनैना की लोकेशन मिलनी बंद हो गई और मोबाइल स्विच ऑफ हो गया तो उनकी तलाश शुरू की गई। वही मंडावली, नजीबाबाद, नगीना, कोतवाली देहात थानों की पुलिस रात भर तहसीलदार रुड़की के वाहन की तलाश में दौड़ती रही। बाद में नहर में तलाशी शुरू कराई गई। रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान दिक्कत आने पर बाद पूर्वी गंग नहर खंड-6 नजीबाबाद के अधिशासी करीब दो घंटे के प्रयास के बाद करीब 5-6 इंच पानी ही कम हो सका था। जिस जगह बोलेरो गाड़ी गिरी थी, वहां नहर की फाल थी। इस कारण रेस्क्यू टीम वाहन को आसानी से निकाल नहीं पा रही थी। मशक्कत के बाद गाड़ी और शवों को बाहर निकाल लिया गया।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here