ब्लैक और व्हाइट के बाद उप्र में आया Yellow fungus का पहला मामला

0
75

गाजियाबाद। देश में कोरोनावायरस की स्थिति अभी संभली नहीं है कि ब्लैक और व्हाइट फंगस के बाद अब येलो फंगस ने भी अपनी दस्तक दे दी है। गाजियाबाद में येलो फंगस के एक मरीज की पुष्टि की गई है। ईएनटी विशेषज्ञ बी.पी. त्यागी ने दावा किया है कि उनके अस्पताल में येलो फंगस का एक मरीज है, जिसका इलाज चल रहा है।

राहत: UP में 5000 से नीचे आए संक्रमण के नए मामले

गाजियाबाद के हर्ष हॉस्पिटल में इस वक्त संजय नगर निवासी 45 वर्षीय एक मरीज एडमिट हैं, जो ब्लैक और व्हाइट फंगस के साथ ही साथ येलो फंगस से भी ग्रस्त है। प्रोफेसर त्यागी ने कहा, “मेरे पास एक मरीज आया, जो शुरूआती जांच के बाद भले ही नॉर्मल लगा, लेकिन दूसरी बार टेस्ट किए जाने के बाद पता चला कि मरीज ब्लैक, व्हाइट के साथ-साथ येलो फंगस भी ग्रस्त है।”

डॉक्टर ने बताया, “यह फंगस रेप्टाइल्स में पाया जाता है। मैंने यह बीमारी पहली बार इंसानों में देखा है। इस बीमारी के इलाज में एम्फोटेरिसिन बी इंजेक्शन का उपयोग किया जाता है। इसे ठीक होने में लंबा वक्त लगता है। मरीज की स्थिति अब काफी अच्छी तो नहीं बताई जा सकती है, लेकिन उनका इलाज जारी है।”

UP में मिला ‘सफेद फंगस’ का पहला मरीज, ये लक्षण दिखें तो हों जाएं सावधान

त्यागी के मुताबिक, ” जहां तक बात बीमारी के लक्षणों की है, तो भूख कम लगती है, शरीर में सुस्ती बनी रहती है, वजन घटने लगता है। शरीर में लगे घाव भी धीरे-धीरे ठीक होते हैं। ”

इस बीमारी से बचने के लिए साफ-सफाई बहुत जरूरी है क्योंकि गंदगी से संक्रमण का प्रसार होता है। आप अपने आस-पास जितनी सफाई रखेंगे उतना ही आप इस बीमारी से सुरक्षित रह सकते हैं।

UP में मिला ‘सफेद फंगस’ का पहला मरीज, ये लक्षण दिखें तो हों जाएं सावधान

मरीज के बेटे अभिषेक ने कहा, ” मेरे पिता का कोरोना का इलाज चल रहा था और वह अच्छे से ठीक भी हो रहे थे। पिछले दो-तीन दिनों में उनकी आंखों में सूजन आने लगी थी और अचानक से वे पूरी तरह से बंद हो गए थे, नाक से खून बह रहा था और पेशाब का रिसाव होने लगा था।”

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here