West UP में कृषि विधेयक के खिलाफ ​किसानों की हुंकार, चक्का जाम ने थाम दिया सबकुछ

मोदी सरकार के कृषि विधेयक के विरोध में शुक्रवार को वेस्ट यूपी के मेरठ समेत तमाम जनपदों में चक्का जाम किया है। इससे मुख्य मार्गों पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई। किसान नए कृषि विधेयक को वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

0
332

मेरठ। वेस्ट यूपी के किसानों ने ​पहली बार केंद्र सरकार के विरोध में इतना बड़ा प्रदर्शन किया है कि सबकुछ थम गया। शुक्रवार को मेरठ, सहारनपुर, ​बागपत, मुजफ्फरनगर, बिजनौर समेत कई जनपदों में किसानों ने चक्का जाम कर दिया। इससे वाहनों की लंबी कतार विभिन्न रूटों पर लग गई, जो खबर लिखे जाने तक जारी थी। मेरठ में दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे पर जटौली कट पर ट्रैक्टर ​खड़े करके भारतीय किसान यूनियन के नेताओं व कार्यकर्ताओें ने धरना शुरू किया और केंद्र सरकार के कृषि विधेयक का जमकर विरोध किया। भाकियू के मंडल उपाध्यक्ष विनोद, जटौली युवा विंग के जिला अध्यक्ष नवाब सिंह अहलावत के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने चक्का जाम किया है। इस दौरान वाहनों को निकलने में काफी परेशानी हो रही है। वाहन जाम में फंसे हुए हैं। यही हाल मेरठ के सकौती का भी रहा। यहां किसानों ने जबरदस्त प्रदर्शन किया।

यह भी पढ़ें: Saharanpur: 7 साल के भतीजे की अपहरण के बाद हत्या में चाचा समेत तीन गिरफ्तार, ये वजह आयी सामने

बिजनौर में भाकियू व राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन ने चक्का जाम शुरू कर दिया। किसानों ने कई जगह सड़कों पर कब्जा कर लिया है। सड़कों पर बीच में अपने वाहन खड़े करके आवागमन पूरी तरह बंद कर दिया है। सड़कों के दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई है। बागपत में भारतीय किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने बड़ौत, अग्रवाल मंडी टटीरी और नगर के राष्ट्र वंदना चौक पर जाम लगा दिया है। किसानों का कहना है कि कानून जबरदस्ती उनके ऊपर थोपा जा रहा है, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। सहारनपुर में भी कई जगह विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है। नागल में भारतीय किसान यूनियन कार्यकर्ताओं ने ब्लाक चौराहे पर ट्रैक्टर ट्रॉली लगाकर आवागमन रोक दिया।

यह भी पढ़ें: Meerut: मामूली विवाद में दो पक्षों के बीच संघर्ष, जमकर हुई फायरिंग, 12 लोग घायल, फोर्स तैनात

सरसावा के शाहजहांपुर में नेशनल हाइवे-73 पर किसानों ने धरना प्रदर्शन करते हुए चक्का जाम कर दिया। किसान नए कृषि बिल का विरोध करते हुए उसे वापस लेने की मांग कर रहे हैं। छुटमलपुर के शेरपुर में किसानों ने हाइवे जाम किया। शामली में कृषि विधेयक के विरोध में पानीपत-खटीमा हाइवे पर चक्का जाम शुरू कर दिया। भाकियू के प्रदेश प्रवक्ता कुलदीप पंवार के नेतृत्व में कार्यकर्ता सड़क के बीचोंबीच टेंट लगाकर धरने पर बैठ गए मुजफ्फरनगर में भाकियू ने कृषि विधेयक के विरोध में जनपद में 10 स्थानों पर चक्का जाम किया। किसानों ने फलौदा, रोहाना, लालूखेड़ी, रामपुर तिराहा, बुढ़ाना बायवाला, शाहपुर, मोरना, नावला कोठी, फुगाना और मीरापुर मोंटी तिराहे पर जाम लगाया।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here