Farmer Protest: सिंघु बॉर्डर पर लगे किसानों के लिए 5 फ्री वाईफाई हॉटस्पॉट

0
203

नई दिल्ली| आम आदमी पार्टी (आप) ने बुधवार को सिंघु बॉर्डर पर वाईफाई हॉटस्पॉट लगवाने की प्रक्रिया शुरू कर दी। यहां किसानों की सुविधा के लिए 5 फ्री वाईफाई हॉटस्पॉट लगवाए गए हैं। वाईफाई लगाने के साथ ही इसके कनेक्शन और सही से काम करने की भी जांच की। आम आदमी पार्टी के विधायक और प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा, “हमें सिंघु बॉर्डर पर कमजोर नेटवर्क और खराब कनेक्टिविटी की कई शिकायतें मिली थीं, जिसकी वजह से किसान अपने घर-परिवार से बात नहीं कर पा रहे थे। अपने परिवार और बच्चों को वीडियो कॉल नहीं कर पा रहे थे। शिकायत मिलने के बाद मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने इस परेशानी को दूर करने का फैसला किया। इसलिए जैसा कि हमने कल वादा किया था, हमने आज फ्री वाईफाई हॉटस्पॉट लगाने का काम शुरू कर दिया है।”

सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों से उन जगहों के बारे में जानकारी मिली, जहां नेटवर्क कमजोर है। इस फीडबैक के आधार पर वाईफाई हॉटस्पॉट के लिए जगहों का चुनाव किया गया। मंगलवार को ही किसानों से उन जगहों के बारे में जानकारी देने की अपील की गई थी जहां इंटरनेट कनेक्टिविटी खराब है। आम आदमी पार्टी ने कहा, “किसानों की जरूरत के मुताबिक हम वाईफाई हॉटस्पॉट लगा रहे हैं। हमने पहले से ही कहा है कि जितने भी वाईफाई हॉटस्पॉट की जरूरत होगी, हम उतने हॉटस्पॉट लगाएंगे। अगर टिकरी बॉर्डर से भी ऐसी मांग आती है, तो हम वहां भी वाईफाई हॉटस्पॉट की सुविधा मुहैया कराएंगे।”

राघव चड्ढा ने इस बारे में बताया कि बेहतर इंटरनेट कनेक्टिविटी से किसान सोशल मीडिया पर बीजेपी नेताओं द्वारा किसानों के खिलाफ फैलाए जा रहे झूठ का पदार्फाश कर पाएंगे। साथ में अपने प्रियजनों से वीडियो कॉल के जरिए बात भी कर पाएंगे। राघव चड्ढा ने कहा, “इस आंदोलन के महत्व का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि देश के अलग-अलग हिस्सों से किसान अपने हक की लड़ाई के लिए दिल्ली की तरफ आ रहे हैं। यह एक ऐतिहासिक आंदोलन है, आप सब जानते हैं कि किसान लंबे समय से अपने घर-परिवार से दूर हैं। उनके परिवार के लोगों को उनकी चिंता होती है। उनके दोस्त-शुभचिंतक उनसे बात करना चाहते हैं। किसान भी अपने माता-पिता, बच्चे और पत्नी को देखना चाहते हैं, उनसे बात करना चाहते हैं। ऐसे में वाईफाई हॉटस्पॉट उन्हें घर से दूर होने पर भी घर के पास होने का एहसास कराएगा।”

चड्ढा ने आगे कहा कि सिंघु बॉर्डर पर कमजोर नेटवर्क की वजह से किसान अपने परिवार को वीडियो कॉल नहीं कर पा रहे थे। इसलिए, उनसे मिले फीडबैक के आधार पर और उनकी जरूरत के हिसाब से अरविंद केजरीवाल ने सिंघु बॉर्डर पर फ्री वाईफाई की सेवा देने का फैसला किया।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here