बैंक में आपका कैश नहीं है सुरक्षित, ATM का क्लोन तैयार कर खाता साफ कर रहे जालसाज, मवाना में महिला के खाते से निकाले 25000

पीड़िता ने थाने में तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है, साइबर सेल में भी शिकायतों की भरमार

0
137

MAWANA। ATM का क्लोन तैयार कर बैंक खाता खाली करने वालों ने नया तरीका इजाद किया है। गुरुवार को मवाना में इसकी बानगी देखने को मिली। एक महिला के एकाउंट से 25 हजार रुपए निकाल लिए गए। महिला ने पहले तो बैंक में शिकायत की इसके बाद थाने में जाकर तैहरीर दी है। यही नहीं साइबर सेल में ऐसी दर्जनों शिकायते आ रही हैं। ठगों को खोजने में साइबर सेल पूरी तरह विफल साबित हो रहा है। मवाना थाना प्रभारी ने भी साइबर सेल को शिकायत से अवगत कराने की बात कही है। बढ़ती शिकायतों के बाद क्राइम ब्रांच ने ALART  जारी किया है।

ATM का यूज कर रहे हैं… तो जरा संभलकर, त्यौहारों के मद्देनजर क्राइम ब्रांच ने किया alart, चुकानी पड़ सकती है भारी कीमत

दरअसल, मामला मवाना कस्बे का है। कस्बा निवासी बबीता गुप्ता ने सुबह ATM से कुछ रुपए निकाले थे। बताया गया कि कुछ समय बाद ही उसके खाते से 10-10 और फिर 5 हजार रुपए निकलने का मैसेज आया। मैसेज देखकर महिला के पैरों के तले से जमीन निकल गई। उसने अपने पति को खाते से पैसे निकलने के बारे में बताया। जिसके बात दंपति पहले तो बैंक पहुंचा उसके बाद मवाना थाने में ATM फ्रोड की तहरीर देकर कार्रवाई की मांग की है। थाना प्रभारी ने बताया है कि ATM फ्रोड की शिकायतें साइबर सेल भेजा जाती है। साथ ही जिस ATM मशीन से महिला ने पैसे निकाले थे उसकी जांच भी कराई जा रही है। उसका सीसीटीवी भी चैक किया जा रहा है।

Love Jihad: अब्दुल्ला ने अमन बनकर युवती को फंसाया प्रेमजाल में, अब तक कर चुका चार शादियां, ऐसे हुआ गिरफ्तार

ठग कैसे बनाते हैं क्लोन 

एक्सपर्ट के अनुसार मशीन में कार्ड़ स्वैप करने वाले स्थान पर स्कीमर डिवाइस लगा दी जाती है। देखने में यह डिवाइस मशीन का ही हिस्सा लगता है। ATM की स्क्रीन और कीबोर्ड़ पर नजर रखने के लिए  कैबिन में स्पाई कैमरा फिट कर दिया जाता है। जब ग्राहक अपना कार्ड मशीन में स्वैप करता है तो डिवाइस कार्ड को स्कैन कर लेती है. साथ ही केबिन में लगा कैमरा स्क्रीन  और पासवर्ड़ रिकॅार्ड कर लेता है। ठगों के पास कई कार्डों की डिटेल होती है। इसके बाद उनके क्लोन तैयार किए जाते हैं। जिस एकाउंट में बैलेंस अधिक होता है उससे रकम निकाल ली जाती है। इसके लेकर साइबर सेल प्रभारी से बात की गई तो बताया गया की यह गिरोह अक्सर त्योहारों पर सक्रिय हो जाता है। साइबर सेल में भी इस तरह की शिकायतें हैं।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here