AAP MP संजय सिंह ने कहा- बिहार चुनाव के परिणाम से खत्म होगी जाति-धर्म की राजनीति

0
167

बागपत। आम आदमी पार्टी (AAP) के उत्तर प्रदेश प्रभारी एवं राज्य सभा सदस्‍य संजय सिंह (MP Sanjay Singh) ने दिल्ली से शामली जाते सोमवार को बागपत (Baghpat) में पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष एवं जिला बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एडवोकेट सोमेंद्र ढ़ाका के चेंबर में मीडिया से बात की। उन्होंने कहा कि दिल्ली के बाद बिहार विधान सभा चुनाव (Bihar Chunav) के एग्जिटपोल के नतीजे से साफ हो गया है कि जाति-धर्म की राजनीति खत्म हो चुकी है, अब मुद्दों की राजनीति वापस लौट रही है। आज शिक्षा, स्वास्थ्य सेवा, रोजगार, बिजली, पानी, सड़कों की जरूरत है। भाजपा (BJP) व बसपा (BSP) एक ही है। हाथी की सूंड में कमल का फूल जा चुका है। उन्होंने कहा कि आगामी जिला पंचायत चुनाव पार्टी सभी सीटों पर लड़ेगी। विधान सभा का चुनाव कैसे लड़ा जाएगा, इसका जल्द ही शीर्ष नेतृत्व निर्णय लेगा।

यह भी पढ़ें: Big Order: एनजीटी ने 30 नवंबर तक Delhi-NCR में लगाई पटाखे बेचने-खरीदने पर रोक

राज्य सभा सदस्‍य संजय सिंह ने नसीहत देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की सरकार से सीख लेनी चाहिए। जहां पर डी-कम्पोजर के माध्यम से पराली का खाद बनाया जा रहा है। उन्होंने हाथरस, बलरामपुर, लखीमपुर खीरी आदि की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि बच्चियों के साथ उत्तर प्रदेश कब्रगाह बन गया है। देश की सबसे महंगी बिजली उत्तर प्रदेश में है। दिल्ली में 200 यूनिट बिजली फ्री तथा 400 यूनिट का आधा दाम उपभोक्ताओं से लिया जाता है।

यह भी पढ़ें: पुलिस ने शराब तस्करों को घेरा तो कारें चढ़ाने ​की कोशिश, पांच गिरफ्तार, इतना माल पकड़ा

यूपी में स्मार्ट मीटर का घोटाला सबके सामने है। यहां पर बिजली मीटर 30 प्रतिशत आगे भागते है। बकायों के नाम पर उपभोक्ताओं के विद्युत कनेक्शन काटे जाते है। उनकी मांग है कि कनेक्शन काटने के बजाए उपभोक्ताओं का 30 प्रतिशत बिल का भुगतान ब्याज सहित वापस किए जाए। पराली जलाने के नाम पर मुकदमें दर्ज कर लोगों को जेल भेजा जा रहा है। जबकि प्रदूषण पराली से बहुत कम होता है। फैक्ट्रियों से प्रदूषण फैलता है, लेकिन अभी एक भी फैक्ट्री मालिक के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया गया।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here