मेरठ के कुछ इलाकों में बाढ़ का संकट गहराया, प्रशासन ने अलर्ट किया जारी, नेताओं ने किया प्रभावित क्षेत्रों का दौरा

बाढ प्रभावित क्षेत्रों के लोगों के माथे पर चिंता की लकीरें

0
176

मेरठः दो दिनों से लगातार हो रही हल्की-हल्की बारिश के चलते हर वर्ष की तरह इस बार भी जनपद के हस्तिनापुर खादर में  बाढ का खतरा मंडरा गया है। गंगा में पानी तेज बहाव ने गंगा तट से सटे दर्जनों गांवों की और कटान तेज कर दिया है। गंगा के तेज बहाव को देखकर कई गांवों के लोगों ने वहां से प्लायन भी शुरु कर दिया है। जिसको लेकर रोजाना नेता और प्रशासन के अधिकारी ऐसे क्षेत्रों का दौरा कर राहत-बचान के लिए भी योजना बना रहे हैं। साथ जिला प्रशासन ने बाढ़ से संबधित क्षेत्र में अलर्ट भी जारी किया है।

मेरठ जोन में स्वाधीनता दिवस को लेकर सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद, ADG ने दिए निर्देश, चप्पे-चप्पे पर रहेगी पैनी नजर

हस्तिनापुर क्षेत्र के लतीफपुर, लुकाधड़ी, मिर्जापुर सहित दर्जनों ऐसे गांव हैं, जहां बरसात के मौसम में जैसे ही गंगा नदी में पानी जल स्तर बढ़ता है तो गांव के लोगों के माथे पर चिंता की लकीरें बढ जाती हैं। यहां हर साल किसानों की करोंड़ों की फसल व मकानों को गंगा  नदी अपनी जद में ले लेती हैं। जिसके चलते इस क्षेत्र में हर साल गांव बसते और उज़़डते रहते हैं। कटान के समय गांव के लोग खाने पीने का सामान लेकर हस्तिनापुर और उससे सटे गांवों में आ जाते हैं। साथ ही कटान बंद होने पर फिर से अपने मूल गांव पहुंच जाते हैं।

गंगा में उफान को देखते हुए जिला प्रशासन ने अलर्ट जारी किया है। साथ ही कुछ गांवों के लोगों को स्थान बदलने के लिए भी कह दिया गया है। इसी को ध्यान में रखते हुए इन गांवों में इन दिनों नेता और अधिकारियों का दौरा चलता है, लेकिन परमानेंट समाधान न तो जनप्रतिनिधि खोज पाते और न ही अधिकारी। जिसके जब लोग उमस भरी गर्मी में भगवान से बारिश की प्राथना करते हैं। यहां के लोग इस समय बारिश न होने की दुआएं करते हैं। इस क्षेत्र में करीब 50 हजार की आबादी ऐसी है जो बाढ से प्रभावित रहती है।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here