पांच साल पहले ​इस अफसर ने Facebook पर भाजपा सरकार के लिए लिखी थी ये बात, अब हुई कड़ी कार्रवाई

आगरा के खाद्य एवं औषधि प्रशासन के जिला अभिहित अधिकारी मनोज वर्मा के खिलाफ भाजपा सरकार के खिलाफ अपनी फेसबुक वॉल पर टिप्पणी के कारण कार्रवाई की गई है। यह टिप्पणी इस अधिकारी ने पांच साल पहले की थी।

0
257

आगरा। भाजपा सरकार के खिलाफ पांच साल पहले अपनी फेसबुक वॉल पर टिप्पणी करने पर आगरा के खाद्य एवं औषधि प्रशासन के जिला अभिहित अधिकारी मनोज वर्मा को भारी पड़ गया है। उस टिप्पणी पर शासन की ओर से अब कार्रवाई की गई है। टिप्पणी और अन्य मामलों को आधार बनाकर इस ​अधिकारी को तत्काल हटा दिया गया है और ​लखनऊ स्थित आयुक्त कार्यालय से संबद्ध कर तत्काल कार्यभार ग्रहण करने को कहा गया है। इस मामले की जांच सहायक कानपुर के आयुक्त खाद्य को दी गई है।

यह भी पढ़ें: इस अंदाज में पहुंचा आईपीएस अफसर तो नहीं पहचान पाए पुलिसकर्मी…फिर ये हुआ

दरअसल, इस अधिकारी ने भाजपा सरकार को ‘जुमलों की सरकार’ कहने और मां भगवती इंटरप्राइजेज और श्रीकृष्णा भोग छेना पाउडर के नमूने की रिपोर्ट आने के बाद भी कार्रवाई न करने पर प्रमुख सचिव ने आगरा में खाद्य एवं औषधि प्रशासन के जिला अभिहित अधिकारी मनोज वर्मा को हटाया है। प्रमुख सचिव अनीता सिंह का विभाग में पत्र आया है। जिसके अनुसार जिला अभिहित अधिकारी के फेसबुक वाल से 15 जुलाई 2015 को तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के फोटो पर ‘जुमलों की सरकार’ और अच्छे दिन 25 साल बाद आने की टिप्पणी की गई थी। इसके साथ-साथ मां भगवती इंटरप्राइजेज और श्रीजी कृष्णा भोग छेना पाउडर के नमूने की रिपोर्ट अधोमानक, असुरक्षित और मिथ्याछाप आने के बाद भी तत्काल कोई कार्रवाई न करने और पांच महीने बाद कार्रवाई का आदेश जारी करने का भी आरोप है।

यह भी पढ़ें: बेटी ने आगे पढ़ने की जिद की तो पिता ने उस पर लगा दिए गंभीर आरोप…दे दी जान

बताते हैं कि दोनों नमूनों की जांच रिपोर्ट 19 जुलाई को आ गई थी, इसमें इन्हें अधोमानक, असुरक्षित और मिथ्याछाप बताया गया था। नियमानुसार जांच रिपोर्ट के बाद ही प्रतिष्ठान का लाइसेंस निलंबित करते हुए खाद्य सामग्री को नष्ट कराया जाना था। जिला अभिहित अधिकारी मनोज वर्मा का कहना है कि मेरी फेसबुक वॉल पर तत्कालीन भाजपा अध्यक्ष के बारे में कोई टिप्पणी की गई है, इसकी मुझे जानकारी ही नहीं है और मां भगवती इंटरप्राइजेज और श्रीजी कृष्णा छेना का मामला मेरे कार्यकाल से पहले का है। इसी बीच, अधिकारी मनोज वर्मा के खिलाफ शासन की ओर से यह कार्रवाई होने के बाद अफसरों में हड़कंप मचा हुआ है। अफसरों के बीच यह कार्रवाई चर्चा का विषय बनी रही।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here