मेरठ में तंबाकू का दिवाना हो रहा यूथ, सर्वे रिपोर्ट को जानकर रह जाएंगे हैरान

नशे लत से हो रहा स्वास्थय खराब, महिलाओं भी बढ रहा नशे का क्रेज

0
332

मेरठ। कहने को मेरठ मेडिकल सिटी है, लेकिन क्या आपको पता है कि हुक्के के अलावा यहां तंंबाकू के दिवाने भी कम नहीं हैं। जहां एक और कम उम्र में युवा हुक्के के शौकीन बन रहें वहीं गुटखा खाने वालों में भी लगातार इजाफा हो रहा है। सर्वे रिपोर्ट में जो सच्चाई सामने आई वह वास्तव में चौंकाने वाली है। अगर मेरठ जनपद की ही बात करें तो यहां 33 फीसदी युवा 20 साल की उम्र से पहले ही नशे की जद में चले जाते हैं। यह सर्वे कुल 5000 लोगों पर किया गया है। जिसमें 20 प्रतिशत महिलाएं भी शामिल हैं।

मेरठ के कुछ इलाकों में बाढ़ का संकट गहराया, प्रशासन ने अलर्ट किया जारी, नेताओं ने किया प्रभावित क्षेत्रों का दौरा

डॅा पियुष बताते हैं कि शहर 42 प्रतिशत लोग किसी न किसी रुप में तंबाकू के आदी हैं। चिंता की बात ये है कि 20 प्रतिशत लोग खुशी के लिए तंबाकू का सेवन करते हैं। इसके अलावा 7 प्रतिशत मस्ती के लिए, 9 फीसदी दोस्तों के देखकर, 6 फीसदी स्वाद के लिए तंबाकू खाते हैं। इसमें हैरानी की बात ये है कि 33 फीसदी युवा 20 साल से भी कम उम्र में तंबाकू का सेवन शुरु कर देते हैं। सबसे ज्यादा 38 प्रतिशत लोगों ने माना है कि वे तंबाकू का सेवन स्कूल या नोकरी के शुरुआती टाइम से ही करते हैं। उन्हे यह लत स्कूल से ही लग गई है। वह ये भी बताते हैं कि यदि उन्हे इसके नुकसान का पहले ही पता चल जाता तो वे इसे नहीं खाते। अब भी वे इस लत से निकलना चाहते हैं. लेकिन निकल नहीं पाते।

महिलाओं में लगातार बढ रहा क्रेज

पहले हाईटेक सिटी को छोड़कर बात करें तो महिलाओं में नशे की लत कम दिखाई देती थी। लेकिन सर्वे में देखने को मिला है कि महिलाओं में हुक्के के अलावा तंबाकू खाने का क्रेज भी लगातार बढ रहा है। जबकि डा राजेश कुमार बताते हैं कि महिलाओं में सबसे ज्यादा ब्रेस्ट केंसर तंबाकू की वजह से ही होता है । शहर में 3 फीसदी महिलाएं भी नशे की आदी हैं। चाहे पर हुक्का हो या गुटका या पान पराग के रुप में तंबाकू का सेवन हो।

मेरठ जोन में स्वाधीनता दिवस को लेकर सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद, ADG ने दिए निर्देश, चप्पे-चप्पे पर रहेगी पैनी नजर

डॅा संदीप बताते हैं कि तंबाकू की लत धीरे-धीरे व्यक्ति को खाती रहती है। उम्र बढने पर जब संबंधित व्यक्ति हांफने लगता  है। तो उसे पता चल जाता है कि वह बीमारी से घिर चुका है। लेकिन उसके बाद भी वह उसे छोड़ नहीं पाता। क्योंकि वह उसकी खुराक में सुमार हो जाता है। लेकिन कुछ दृढ निश्ययी व्यक्ति इससे निजात भी पा लेते हैं।

 

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here