लड़कों की हाफ पैंट पर खाप पंचायत ​का फरमान, नरेश टिकैत बोले- जब लड़कियों से जींस पहननी छुड़वाई जा सकती है तो…

भाकियू के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरेश टिकैत ने अब लड़कों की हाफ पेंट पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि लड़कियों के जींस पहलनना छुड़वाया जा सकता है तो लड़कों की हाफ पेंट भी छुड़वायी जा सकती है। यह सभ्य समाज में शालीनता के दायरे में नहीं आता।

0
310

बागपत। भारतीय किसान यूनियन (BKU) के अध्यक्ष चौधरी नरेश टिकैत (Naresh Tikait) ने कहा है कि यदि लड़कियों से जींस (Girls Jeans) पहनना छुड़वाया जा सकता है तो लड़कों की हॉफ पैंट (Boys Half Pant) क्यों नहीं। हॉफ पैंट के नाम पर निकर पहना जा रहा है, जिसे कोई भी सभ्य समाज स्वीकार नहीं कर सकता। सामाजिक जागरूकता और संस्कार से ही पहनावा बदला जा सकता है। नरेश टिकैत आम आदमी पार्टी विधायक (AAP MLA) नरेश के भाई की शोक सभा में जाते समय बागपत में हाइवे स्थित रेस्टोरेंट में मीडिया से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों सामाजिक जागरूकता के तहत बेटियों से जींस नहीं पहनने का आह्वान किया था। जिस पर करीब 80 फीसदी बेटियों ने बात को मान लिया था। इसी तरह अब लड़कों को जागरूक किया जा रहा है। सार्वजनिक तौर पर हाफ पैंट का पहनावा भी शालीन नहीं है।

यह भी पढ़ें: CCSU Meerut: इस तारीख से शुरू होगी कालेजों में पढ़ाई, विश्वविद्यालय ने कर ली पूरी तैयारी

नया पेराई सत्र शुरु होने से पूर्व किसानों के बकाए का भुगतान होना चाहिए। कहा कि एनसीआर में पराली नहीं बल्कि फैक्टरी व कूड़े के ढेर में आग लगाने से प्रदूषण फैल रहा है। सरकार को कृषि कानून लाने से पहले किसानों से बात करनी चाहिए थी। सरकार का मानना है कि पराली जलाने से चार फीसदी प्रदूषण फैल रहा है, इसके लिए किसानों पर अर्थदंड व एफआईआर दर्ज कराने के आदेश किए गए है, जबकि 96 फीसदी प्रदूषण फैलाने वाली फैक्ट्रियों पर कोई कार्रवाई नही की जा रही है। किसानों के बकाए का भुगतान नहीं किया गया है और पेराई सत्र शुरू करने की तैयारियां हो गई है। उन्होंने कहा बिजली के बिलों में बढ़ोतरी हो रही है। बकाए का भुगतान न होने के कारण किसान बर्बाद हो गया है। सरकार आवारा पशुओं के पालन के लिए 30 रुपये का भुगतान कर रही है। उन्होंने राशि को बढ़ाकर कत से कम 200 से 300 रुपये प्रतिदिन करने की मांग की।

यह भी पढ़ें: छोटे को पैसे ​देने से गुस्साए बड़े बेटे ने पिता की पिटाई के बाद गला दबाकर की हत्या

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here