मेरठ। शनिवार को शुरू हो रहे नवरात्र (Navratra) में कोरोना (Corona) को लेकर मेरठ जनपद (Meerut District) में राहत की खबर आयी है। शुक्रवार की देर रात आयी कोरोना रिपोर्ट (Corona Report) में काफी समय बाद ​24 घंटे में 100 से कम 98 नए मरीज मिले हैं। ये अच्छी खबर इसलिए है क्योंकि पिछले दो महीने से रोजाना 100 से 250 नए कोरोना मरीज मिल रहे थे। शुक्रवार को 4548 सैंपल (Corona Samples) की जांच की गई और संक्रमण का स्तर 2.17 फीसदी रहा।

सीएमओ डा. राजकुमार ने बताया कि जिले में कोरोना का आंकड़ा गिर रहा है। हालांकि जरा सी भी लापरवाही जानलेवा साबित हो सकती है। उन्होंने बताया कि 838 सैंपल की जांच प्रतीक्षा में है। 120 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया है। अब तक 9358 लोग ठीक होकर घर पहुंच गए। 781 लोगों को होम आइसोलेशन में रखा गया है। मेडिकल कालेज के कोविड वार्ड में मरीज के भर्ती रहने को लेकर नया रिकार्ड बना। 55 साल का एक मरीज शुक्रवार को 42 दिन पूरा कर डिस्चार्ज हुआ। इससे पहले अप्रैल में एक मरीज 32 दिन बाद डिस्चार्ज हुआ था। कोविड वार्ड के प्रभारी डा. सुधीर राठी ने बताया कि मरीज पहले आइसीयू में रहा। फिर दूसरे आइसीयू में भेजा गया। उसकी रिपोर्ट निगेटिव नहीं आ रही थी। वहीं शरीर आक्सीजन नहीं मेंटेन कर पा रहा था। मरीज की रिपोर्ट रिकार्ड 40 दिन बाद निगेटिव आयी।

गढ़ रोड स्थित मेडिविन अस्पताल को लापरवाही पर जिला प्रशासन ने नोटिस भेजा है। दो दिन पहले परीक्षितगढ़ का एक मरीज अस्पताल में भर्ती हुआ। सांस फूलने की वजह से उसे आक्सीजन दी गई। थोड़ी देर बाद अस्पताल ने मरीज को घर भेज दिया। बाद में मरीज ने घर पर दम तोड़ दिया। जांच हुई तो वह कोरोना पाजिटिव पाया गया। सीएमओ डा. राजकुमार ने बताया कि सांस का मरीज होने के बावजूद अस्पताल ने उसे मेडिकल कालेज नहीं भेजा। यह बड़ी लापरवाही है। इसमें अस्पताल की लापरवाही पर स्वास्थ्य विभाग ने नोटिस भेजा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here