Meerut: कूड़े के ढ़ेर में तब्दील हुआ Nagar Nigam का वार्ड-69, सफाई कर्मचारी नदारद!

0
101

मेरठ। कभी स्मार्ट सिटी होने का ख्वाब संजोने वाले मेरठ महानगर की दशा दिन-ब-दिन बिगड़ती जा रही है। तेज तर्रार और ईमानदार नगर आयुक्त के प्रयास और नगर निगम में तैनात सफाई कर्मचारियों के लंबी चौड़ी फौज के बावजूद भी शहर के अधिकांश इलाके गंदगी और कूड़े के ढ़ेर से अटे पड़े हैं। ऐसा तो तब है जब नगर आयुक्त मनीष बंसल खुद निगम अधिकारियों की टीम को लेकर हर सुबह शहर का औचक निरीक्षण कर सफाई-व्यवस्था का जायजा लेते हैं, लेकिन सफाई कर्र्मचारी हैं कि सुधरने का नाम नहीं ले रहे है।

Meerut Nagar Nigam टीम ने शहर में हटवाए अवैध होर्डिंग, कई को चेतावनी देकर छोड़ा

union budget 2021: बैंक डूबने पर ग्राहकों नहीं हैं परेशान होने की जरुरत, अब 1 लाख की जगह मिलेंगे 5 लाख रुपए

महानगर की सफाई व्यवस्था का जायजा लेने के लिए यूपी न्यूज लाइव की टीम बुधवार को मेरठ के वार्ड संख्या 69 पहुंची। टीम ने जब वार्ड का मुआयना किया तो यहां हर गली नुक्कड पर गंदगी का अंबार और कूड़े के ढ़ेर लगे नजर आए।

इस दौरान जब स्थानीय निवासियों से बात की गई तो उनमें नगर निगम और सफाई कर्मचारियों के प्रति साफ नाराजगी देखने को मिली। लोगों का कहना था कि यहां सफाई कर्मचारी कागजी खानापूर्ति कर रफूचक्कर हो जाते हैं। वार्ड में बाबा खाकी मन्दिर के पास कूडे के ढेर और नालियां चोक मिलीं।

CBSE ने जारी की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं की डेटशीट, जानिए Exam की तारीख

इस दौरान वार्ड के द्वारका चोक मे रहने वाले लोगों से जब पूछा गया तो वहां रहने वाली डोली नाम की महिला ने कहा कि सफाई कर्मचारी आते ही नहीं। ऐसे ही अनिल कुमार शर्मा ने कहा हमारे यहां की नालियां तक चोक पड़ी हैं।

 किसान आंदोलन के जरिए सियासी जमीन बनाने में जुटा रालोद

वार्ड के पार्षद पंकज गोयल की मानें तो उनके वार्ड से लगभग 20 से 30 सफाई कर्मचारी हमेशा गायब रहते हैं। इस संदर्भ में नगर स्वास्थ्य अधिकारी से लेकर नगर आयुक्त तक कई बार शिकायत की गई, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। पार्षद पंकज गोयल ने बताया कि वार्ड के कई इलाकों में गंदगी की बहुत बुरी स्थिति है। बदबू की वजह से वहां निकला दूूभर हो जाता है।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here