Diwali पर पुलिस की निगाह पटाखों का अवैध कारोबार करने वालों पर, शुरू हुआ ये अभियान

दीवाली पर पटाखों का अवैध कारोबार करने वालों के खिलाफ पकड़-धकड़ के लिए पुलिस अभियान में जुट गई है। कस्बा सरधना की घटना में दो लोगों की मौत हो गई, जबकि दो बच्चों समेत सात लोग घायल हुए हैं। ऐसी ​घटनाओं को रोकने के लिए पुलिस ने ये अभियान शुरू किया है।

0
116

मेरठ। दीवाली (Diwali) आने से पहले पटाखों (Firecracker) के अवैध कारोबार (Illegal Business) को लेकर पुलिस (Meerut Police) की निगाह पैनी हो गई है। वैसे भी गुरुवार को कस्बा सरधना में मोेहलला पीरजादगान में पटाखों के धमाकों से दो लोगों की जान जानें (Two People Death) के बाद पुलिस उन लोगों की तलाश में जुट गई है जो पटाखों का अवैध कारोबार कर रहे हैं। इनकी लिस्ट तैयार की जा रही है, इनके खिलाफ अभियान (Abiyan Against Illegal Cracker) चलाया जाएगा। ताकि सरधना (Sardhana) जैसी वारदात की पुनरावृत्ति न हो।

यह भी पढ़ें: CCSU Meerut: इस तारीख से शुरू होगी कालेजों में पढ़ाई, विश्वविद्यालय ने कर ली पूरी तैयारी

सीओ आरपी शाही ने बताया कि पटाखों का अवैध भंडारण और बिक्री करने वालों की जानकारी जुटाई जा रही है। पुराना रिकार्ड भी खंगाला जा रहा है। पटाखों का अवैध कारोबार चलने नहीं दिया जाएगा। थाना प्रभारियों के साथ ही चौकी प्रभारियों से भी कार्रवाई करने के लिए कहा गया है। साथ ही बीट के सिपाहियों को भी जानकारी मिलने पर तुरंत ही उच्च अधिकारियों को बताने का निर्देश दिया गया है। उन्होंने बताया कि पूर्व में नगर के दो लोगों को पटाखे बनाने का लाइसेंस दिया गया था, जिसमें से एक की मौत हो गई है। दूसरे के लाइसेंस की वैधता खत्म को गई है। पुलिस उसे संदिग्ध मानकर तलाश में जुट गई है।

स्थानयी लोगों का कहना है कि धमाके के बाद अब पुलिस कार्रवाई करेगी, लेकिन वह भी खानापूर्ति के लिए। यदि सख्ती से जांच की जाए तो आसपास ही और पटाखों के जखीरे मिल जाएंगे। त्योहार के चलते अवैध रूप से पटाखे बनाए जा रहे हैं और उनका भंडारण हो रहा है। एसडीएम अमित कुमार का कहना है कि पटाखों का भंडारण करने वालों के बारे में पता लगाया जा रहा है। अभी किसी के पास लाइसेंस नहीं है।

यह भी पढ़ें: लड़कों की हाफ पैंट पर खाप पंचायत ​का फरमान, नरेश टिकैत बोले- जब लड़कियों से जींस पहननी छुड़वाई जा सकती है तो…

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here