23 मार्च के बाद Meerut Passport Office में लौटी रौनक, विदेश जाने के लिए लोगों ने दिखाई दिलचस्पी

कोरोना के कारण मेरठ में कैंट स्थित पासपोर्ट आफिस सोमवार को खुल गया है। यह 23 मार्च को बंद हो गया था। लॉकडाउन होने के बाद करीब सात महीने बाद आफिस खुलने के बाद 20 लोगों ने पासपोर्ट के लिए आवेदन किया।

0
165

मेरठ। कोरोना (Corona) के कारण मेरठ का पासपोर्ट आफिस (Meerut Passport Office) भी 23 ​मार्च को बंद हो गया था। लॉकडाउन (Lockdown) के बाद अनलॉक हुए शहर में पाससपोर्ट आफिस (Passport Office) भी सोमवार को खुल गया है। पासपोर्ट के लिए आवेदन करने वालों की भीड़ रही, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग (Social Distancing) का भी बेहद ख्याल रखा गया।  मेरठ कैंट स्थित पासपोर्ट आफिस में सोमवार को बीस आवेदक एप्वाइंटमेंट प्रकिया के तहत आफिस पहुंचे और अपने कागजातों के सत्यापन को पूरा किया।

विदित है कि 23 मार्च को कोरोना से बचाव व सुरक्षा के चलते कैंट स्थित पीओपीएसके बंद कर दिया गया था। मार्च से लेकर अक्तूबर तक तत्काल आवेदन कर मेरठ के कुछ आवेदक गाजियाबाद जा रहे थे। पिछले कुछ दिनों से मेरठ पीओपीएसके के लिए आवेदकों की आवेदन संख्या बढने लगी थी। जिसको लेकर विदेश मंत्रालय की ओर से कार्यालय खोलने के निर्देश दिए गए। मेरठ पीओपीएसके प्रभारी अजय कुमार ने बताया कि भीड़ से बचने के लिए शुरूआत में प्रतिदिन अधिकतम 20 एप्वाइंटमेंट लिए जाएंगे। इसके बाद आवेदकों की एप्वाइंटमेंट संख्या बढ़ा दी जाएगी।
शास्त्रीनगर से पासपोर्ट आफिस पहुंचे शास्त्रीनगर निवासी 81 वर्षीय श्याम सुंदर ने कहा कि वह एलआईसी से सेवानिवृत्त हैं। वह काफी समय से पासपोर्ट आफिस शुरू होने की प्रतीक्षा कर रहे थे। वह गाजियाबाद जाने में असमर्थ हैं। इसलिए उन्होंने सोमवार को आवेदन प्रकिया पूरी की। वह खुश हैं कि पासपोर्ट बनने के बाद अब वह अपने बेटे से मिलने के लिए अमेरिका जा सकेंगे।

सिलाई कंपनी के मैनेजर मयूर विहार निवासी दीपक कुमार त्यागी ने बताया कि वह एक सिलाई मशीन कंपनी में मैनेजर हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें आफिस कार्य के लिए विदेश जाना था। लेकिन पासपोर्ट कार्यालय बंद होने के कारण एप्वाइंटमेंट नहीं मिल सका। अब वह पासपोर्ट बनवाकर विदेश जाएंगे।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here