मेरठ। कोरोना महामारी के बीच पश्चिम यूपी के केंद्र मेरठ से अच्छी खबर सामने आई है। दरअसल, मेरठ के वेदव्यासपुर में बन रहा आईटी पार्क अक्टूबर में शुरू हो जाएगा। इस योजना के अं​तर्गत लगभग 100 आईटी कंपनियों को मेरठ से जोड़ने की योजना है। यह योजना न केवल मेरठ बल्कि पूरी वेस्ट यूपी के लिए लाभकारी साबित होगी। इससे लोगों को बड़े स्तर पर रोजगार मिल सकेगा। आईटी पार्क की निर्माण की कार्यदायी संस्था ने दावा किया है कि अक्टूबर तक काम खत्म कर लिया जाएगा। इसके साथ देश की नामचीन आईटी कंपनियों को मेरठ के इस आईटी पार्क से जोड़ने की प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी।

सामुहिक दुष्कर्म पीड़िता को नहीं मिल रहा न्याय, किया आत्मदाह का प्रयास

देवी-देवताओं पर अशोभनीय टिप्पणी करने वाली हीर खान गिरफ्तार

दरअसल, मेरठ को आईटी सिटी बनाने का खाका करीब पांच साल पहले खींचा गया था। उस समय मेरठ को गुरुग्राम और नोएडा के बाद आईटी का सबसे बड़ा हब माना जा रहा था। लेकिन बाद में शासन स्तर से हुए के बदलावा के परिणामस्वरूप आईटी सिटी के बजाए मेरठ में आईटी पार्क का निर्माण करने संबंधी प्रस्ताव पर मुहर लगी। जिसके निर्माण का जिम्मा मेरठ विकास ​प्राधिकरण मेरठ को मिली। एमडीए ने इसके लिए वेदव्यासपुरी योजना को चुना और आईटी पार्क के निर्माण के लिए केंद्र सरकार की एजेंसी एसटीपीआई के साथ काम शुरू किया। उस समय मार्च-2020 आईटी पार्क निर्माण की डेड लाइन घोषित की गई थी।

 Meerut: Rajpal Singh को मिली मेरठ की कमान, सपा हाईकमान ने फिर बनाया जिलाध्यक्ष

NCERT की नकली बुक छापने के मामले हुआ चौंकाने वाला खुलासा, जानकर रह जाएंगे हैरान

लेकिन देश में कोरोना महामारी की वजह से यह आईटी पार्क का निर्माण कार्य करीब दो से तीन महीने तक पेंडिंग पड़ा रहा। अब चूंकि सरकार ने लॉकडाउन को हटा दिया है, तो पार्क के निर्माण कार्य में फिर से तेजी आई। अब आईटी पार्क का काम बिल्कुल अंतरिम चरण में पहुंच चुका है। एसटीपीआई के अफसरों की मानें तो अक्टूबर तक आईटी पार्क का निर्माण कार्य खत्म कर लिया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here