MDA के जेई ने लिया अवैध निर्माण को वैध कराने का कॉन्ट्रेक्ट! कैसे होगा शहर का विकास?

MDA: अफसर खबरदार तो फिर गंगा नगर में कैसे बनकर खड़ा हो गया ‘रामचंद्र सहाय आनंद स्वरूप’ का शोरूम

0
116

मेरठ। मेरठ विकास प्राधिकरण में जेइयों का बोलबाला है। यह बात तो पहले से ही आम है लेकिन इस बार MDA के एक जेई ऐसा कारनामा कर दिखाया है,​ जिसके बारे में कल्पना भी नहीं की जा सकती। दरअसल, MDA के एक जेई ने अवैध निर्माण को वैध कराने का कॉंट्रेक्ट ले लिया है। ऐसा हम नहीं, बल्कि खुद निर्माणकर्ता कह रहा है।

कंपाउंडिंग कराने का कॉन्ट्रेक्ट लिया

यहां हम बात कर रहे हैं MDA के जोन-D स्थित गंगानगर की। दरअसल, गंगानगर में लैंड यूज के विपरीत बिल्डर सचिन गुप्ता ने ‘रामचंद्र सहाय आनंद स्वरूप’ का शोरूम बनाकर खड़ा कर दिया है। MDA की नियमावली के अनुसार इस बिल्डिंग का न तो मानचित्र स्वीकृत हो सकता है और न ही बन पूरे हो चुके निर्माण की कंपाउंडिंग। बावजूद इसके MDA के जेई मनोज सिसौदिया ने बिल्डर से इस बिल्डिंग को वैध कराने का ठेका लिया है। दरअसल, बिल्डर सचिन गुप्ता के अनुसार जेई मनोज सिसौदिया ने इस अवैध निर्माण की कंपाउंडिंग कराने का कॉन्ट्रेक्ट लिया है। जेई मनोज सिसौदिया ही MDA में इसकी पैरवी में जुटे हैंं।

Meerut की केमिकल फैक्ट्री के गोदाम में अचानक लगी भीषण आग, मचा हड़कंप ​

क्षेत्र में कोई कमर्शियल एक्टिविटी नहीं हो सकती

दरअसल, गंगानगर एक आवासीय कॉलोनी है। कॉलोनी के जिस क्षेत्र में यह बिल्डिंग बनी है, उसका लैंडयूज भी रेजिडेंशियल ही है। इसका मतलब यह है कि इस क्षेत्र में कोई कमर्शियल एक्टिविटी नहीं हो सकती है। ऐसे में यहां कोई, दुकान, शोरूम या फिर कमर्शियल कॉंप्लेक्स नहीं बनाया जा सकता है। बावजूद इसके अगर कोई कमर्शियल बल्डिंग बनती है तो वह पूर्ण रूप से अवैध मानी जाएगी, जिस पर कार्रवाई का जिम्मा मेरठ विकास प्राधिकरण और उसके अधिकारियों का होगा। यहां सबसे बड़ा सवाल यह है कि अगर यह एक रेजिडेंशियल कॉलोनी और यहां कोई कमर्शियल एक्टिविटी नहीं हो सकती तो फिर ‘रामचंद्र सहाय आनंद स्वरूप’ का शोरूम कैसे बनकर तैयार हो गया।

मुस्लिम ​महिला ने रखा करवा चौथ का व्रत तो उलेमाओं में आया उबाल, दे डाली ये नसीहत

शोरूम अवैध रूप से बनाया गया

गंगानगर में ​रामचंद्र सहाय आनंद स्वरूप का शोरूम अवैध रूप से बनाया गया है। लैंड यूज भी इसकी अनुमति नहीं देता, लेकिन इसकी कंपाउंडिंग हो सकती है। इस निर्माण की कंपाउंडिंग संबंधी फाइल पर एमडीए में काम जारी है। बिल्डर ने इतना निर्माण कर लिया है तो कमांउडिंग ही हो सकती है। हाई कोर्ट ​ने फिलहाल कंपाउंडिंग पर रोक लगा रखी है। मैंने कोई कॉन्ट्रेक्ट नहीं लिया।
-मनोज सिसौदिया, जेई एमडीए

मैं वर्जन देने के लिए अधिकृत नही हूं। आपकी जानकारी के लिए बता दूं कि निर्माण के समय अवैध रूप से बन रहे इस शोरूम पर सील लगा दी गई थी, लेकिन निर्माणकर्ता ने सील तोड़कर निर्माण कार्य जारी रखा। अब इसमें आगे की कार्रवाई की जा रही है।
-विपिन कुमार, जोनल अधिकारी, जोन डी

एमडीए के जेई मनोज सिसौदिया हमारी बिल्डिंग की कंपाउंडिंग करा रहे हैं। पूरी फाइल जेई के पास है और उस पर काम शुरू हो चुका है। हमारे आसपास भी ऐसी ही कई ​कंस्ट्रक्शन एक्टिविटी चल रही हैं।
-सचिन गुप्ता, रामचंद्र सहाय आनंद स्वरूप

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here