Lockdown में शादी के 20 दिन बाद ही पति ने पत्नी के साथ रहने से कर दिया इनकार, जानिए वजह

कोरोना संक्रमण काल में लॉकडाउन करीब पांच महीने रहा। इस दौरान रिश्तों को लेकर खासतौर पर अलग नजरिया देखने को मिला। इसके अनुभव अच्छे भी रहे और बुरे भी। मेरठ जनपद शादी को लेकर एक मामला सामने आया है।

0
200

मेरठ। कोरोना काल में लॉकडाउन के कारण कई अजीबो-गरीब मामले देखने में आए हैं। लॉकडाउन में कई शादियां भी हुई हैं। इनके साइड-इफेक्ट अब सामने आ रहे हैं। बिना रिश्तेदारों और धूमधाम से हुई इन ​शादियों को करने में जल्दबाजी दिखाई गई, लॉकडाउन खत्म होने के बाद उसके परिणाम सामने आ रहे हैं। मेरठ में लॉकडाउन के दौरान अप्रैल में टीपी नगर क्षेत्र के युवक की शादी रोहटा क्षेत्र के गांव पूठ निवासी युवती से हुई थी। यह शादी 20 दिन भी नहीं चल सकी। अब यह मामला एसएसपी अजय साहनी तक पहुंचा है। यह मामला परिवार परामर्श केंद्र ट्रांसफर किया गया है। बताते हैं कि पति ने पत्नी की उम्र ज्यादा बताकर उसे घर से निकाल दिया। अब दोनों की काउंसलिंग की जा रही है।

यह भी पढ़ें: UP: By Election में BSP बनाएगी नया कीर्तिमान, जानिए मायावती का ‘मास्टर ​स्ट्रोक’

लॉकडाउन के दौरान अप्रैल में टीपी नगर के युवक शिव की शादी रोहटा क्षेत्र के गांव पूठ की युवती गौरा के साथ हुई थी। कोरोना के कारण बहुत ही सादे समारोह में शादी हुई थी। इसमें दोनों घरों के चुनिंदा रिश्तेदार ही शामिल हुए थे। शादी के बाद गौरा ससुराल में पति के साथ रहने लगी। बताते हैं कि 20 दिन भी पति-पत्नी साथ नहीं रह सके। पति ​शिव का आरोप है कि गौरा की उम्र ज्यादा है, इसलिए वह उसे पास नहीं रख सकता। उसने पत्नी गौरा को घर से निकाल दिया। इसके बाद पत्नी ने एसएसपी से शिकायत की तो मामला परिवार परामर्श केंद्र में पहुंच गया। लॉकडाउन के कारण दोनों की काउंसिलिंग 180 दिन बाद हो पायी। काउंसलर के सामने विवाहिता ने पति और परिवार पर उत्पीड़न करने का आरोप लगाकर ससुराल जाने से मना कर दिया, जबकि पति ने पत्नी की उम्र ज्यादा बताकर उसे साथ रखने से मनाकर दिया है। काउंसलर किशन लाल ने दंपती को समय देते हुए दूसरी तारीख दी है।

यह भी पढ़ें: Love Jihad: अब्दुल्ला ने अमन बनकर युवती को फंसाया प्रेमजाल में, अब तक कर चुका चार शादियां, ऐसे हुआ गिरफ्तार

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here