West UP में बारिश नहीं होने से बढ़ी गर्मी और उमस, अभी ​करना पड़ेगा इतने दिन इंतजार

वेस्ट यूपी के ​अधिकतर जनपदों में सितंबर महीने के दौरान सामान्यत: 136 मिमी बारिश होती है, लेकिन इस बार शून्य बारिश रिकार्ड हुई है। इसके कारण गर्मी—उमस बढ़ गई है। अक्टूबर के पहले सप्ताह में ​बारिश होने की संभावना जताई गई है।

0
152

मेरठ। शुक्रवार को सितंबर महीने का सबसे गर्म दिन रहा। वेस्ट यूपी में मेरठ, बागपत, मुजफ्फरनगर, हापुड़, गाजियाबाद, नोएडा, बुलंदशहर, सहारनपुर, शामली, मुरादाबाद, रामपुर, संभल समेत कई जनपदों में बारिश नहीं होने से यही स्थिति​ बनी हुई है। सितंबर में जहां ​136 मिमी बारिश होनी चाहिए थी, वहां शून्य ​बारिश रिकार्ड हुई है। इससे ​अंदाजा लगा सकते हैं कि गर्मी-उमस से लोग किस कदर परेशान हैं। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि सितंबर में बारिश के आसार नहीं है। सामान्य रूप से मानसून सितंबर के आखिर में आ जाता है, लेकिन ​इस बार देरी से आएगा। अक्टूबर के पहले ​सप्ताह में बारिश की संभावना है।

यह भी पढ़ें: Meerut में Corona का कहर जारी, 24 घंटे में मिले 196 ​नए मरीज, 8 ​की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा पहुंचा ​8356

मौसम विभाग ने सितंबर में बारिश होने की संभावना जताई थी। इसके पूर्व रविवार के बाद सोमवार को भी आसमान के साफ नजर आने से तेज धूप निकली थी, रविवार की तरह ही सोमवार को गर्मी और उमस का सामना करना पड़ा। सितंबर के महीने में जिस प्रकार उम्‍मीद जताई जा रही थी कि बारिश होगी, ऐसा हो नहीं रहा है। शुक्रवार की सुबह आसमान पर छाए बादलों ने बारिश होने की कुछ उम्‍मीदें जगाई थी, कुछ देर बाद निकली धूप ने सारी संभावनाओं को खत्‍म कर दिया था। सितंबर में बारिश न होने से तापमान बढ़ रहा है। शुक्रवार को अधिकतम तापमान पांच साल में अपने सबसे उच्चतम बिंदु पर पहुंच गया। मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार आने वाले दिनों में बारिश के आसार नहीं हैं। इस बार मिल रहे संकेतों से मानसून की वापसी अक्टूबर के प्रथम सप्ताह में होगी।

यह भी पढ़ें: दिल्ली तक 82 किलोमीटर का सफर 55 मिनट में कराएगी पूरा, जारी हुआ Rapid Rail का मॉडल

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here