Meerut Nagar Nigam में एक और गड़बड़झाला! अनुचर कर रहे प्रमाण पत्रों की जांच

मेरठ नगर निगम ( Meerut Nagar Nigam ) में जारी प्रमाण पत्रों के खेल में रोजाना नया खुलासा हो रहा है

0
173

मेरठ। मेरठ नगर निगम ( Meerut Nagar Nigam ) में जारी प्रमाण पत्रों के खेल में रोजाना नया खुलासा हो रहा है। एक ही नाम से जारी किए जा रहे कई जन्म प्रमाण पत्रों ( Birth certificates ) के बीच अब एक नया खेल निकलकर सामने आया है। समाज सेवा पंकज चिण्डालिया ने जिलाधिकारी कार्यालय ( District Magistrate Office ) में शिकायत कर बताया है कि मृत्यु प्रमाण पत्रों (Death certificates ) पर आख्या वार्ड सुपर वाइजर या इंस्पेक्टर के स्थान पर एक अनुचर से कराई जारी है। शिकायत में बताया गया कि मृत्यु प्रमाण पत्रों पर नियमानुसार वार्ड सुपर वाइजर द्वारा आख्या प्रस्तुत करने के बाद लिपिक दिनेश नियमों के विपरीत एक अनुचर से पुन: जांच कराता है, जिसकी आड़ में आवेदकों का आर्थिक शोषण किया जाता है। पंकज ने DM को शिकायत भेजकर इसमें जांच की मांग की है।

Meerut के सरधना ब्‍लास्‍ट में दारोगा समेत दो पुलिस​कर्मी निलंबित, भारी मात्रा में पकड़ा गया था पटाखों का बारूद

मामला CM योगी आदित्यनाथ के दरबार भी पहुंचा

आपको बता दें कि मेरठ नगर निगम के जन्म मृत्यू अनुभाग ( Birth death section ) में प्रमाण पत्र जारी करने में हो रही धांधली का मामला मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दरबार भी जा पहुंचा है। जिसके चलते इस मसले पर शासन स्तर से जांच बैठाई जा सकती है। दरअसल, शिकायतकर्ता ने इस प्रकरण में CM योगी और मुख्य सचिव को ट्वीट कर निगम में हो रहे इस गड़बड़झाले में जांच की मांग की है। इसके साथ ही नगर निगम और प्रशासनिक अधिकारियों ने भी इस मामले की गंभीरता से जांच कराकर सख्त कार्रवाई करने का आश्वासन दिया है।

Muzaffarnagar में अवैध रेत खनन को लेकर दो पक्षों में जमकर संघर्ष, चले फावड़े और डंडे, छह घायल

क्या है मामला

दरअसल, नगर निगम के जन्म मृत्यू अनुभाग ( Birth death section ) में प्रमाण पत्र बनाने का खुला खेल चल रहा है। सारे नियम कायदों को धता बताते हुए बेपरवाहा बाबू एक दिन में एक ही बच्चे के कई-कई प्रमाण पत्र जारी कर रहे हैं। नगर निगम कार्यालय में तैनात जन्म मृत्यू लिपिक दिनेश सिंह ने पिछले दिनों एक ही बच्चे के दो जन्म प्रमाण पत्र जारी किए हैं। मजे की बात यह है कि दोनों ही प्रमाण पत्रों के लिए एक दिन आवेदन किया गया था। ​संबंधित लिपिक ने इस मामले की जांच किए बिना एक ही बच्चे के दो जन्म प्रमाण पत्र जारी कर दिए।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here