Meerut से जल्द शुरू होगी हवाई उड़ान, CM Yogi ने हाथ में ली कमान

मेरठ की हवाई पट्टी पर विकास कार्य अधूरे पड़े हैं। इन्हें पूरा कराने को लेकर हमेशा ही राजनीति हुई है, लेकिन हवाई उड़ानें शुरू नहीं हो पायी। इस बार सीएम योगी आदित्यनाथ ने मोर्चा संभाला है।

0
203

मेरठ। मेरठ (Meerut) में जब से परतापुर में डा. भीमराव अंबेडकर हवाई पट्टी (Dr. Bhimrao Ambedkar partapur hawai patti) का निर्माण किया गया है, तब से यहां से हवाई उड़ान को लेकर राजनीति चल रहा है। पिछले दस साल से हवाई उड़ान को लेकर दावे तो तो बहुत ​होते रहे, लेकिन फाइल आगे नहीं बढ़ पायी। यही वजह है कि हवाई पट्ट्री से हवाई सेवा शुरू नहीं हो सकी। अब एक बार ​फिर यहां से हवाई उड़ान की कवायद शुरू की गई है, लेकिन ​इस बार सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने कमान अपने ​हाथ में ली है। सीएम ने केंद्रीय नगर विमानन मंत्री हरदीप पुरी (Hardeep Puri) से मेरठ में भी विकास कार्य कराए जाने को कहा है। अगर सही दिशा में काम हुआ तो ​मेरठ से प्रयागराज, लखनऊ, वाराणसी के लिए 72 सीटर विमान उड़ान भर पाएंगे।

यह भी प​ढ़ें: CCSU Meerut: एमबीबीएस की कॉपी बदलने के प्रकरण में अब डिप्टी रजिस्ट्रार पर बड़ी कार्रवाई

पिछले 10 वर्षों से मेरठ में परतापुर हवाई पट्टी से हवाई उड़ान का प्लान तैयार किया जा रहा है। लेकिन अभी तक यह प्लान धरातल पर नहीं उतरा। एएआई को भी सुपर इंपोज प्लान जिला प्रशासन द्वारा भेजा जा चुका है। एएआई ने उसकी जांच की जिम्मेदारी प्लानिंग सेक्शन को सौंपी थी। इस प्लान में सरकार के पास कितनी जमीन उपलब्ध है। इसके अलावा कितनी जमीन वन विभाग, एमडीए व अन्य सरकारी विभागों की है तथा किसानों की कितनी जमीन लेने की जरूरत होगी। इसकी रिपोर्ट तैयार की गई थी। अभी मौके पर हवाई पट्टी 120 मीटर चौड़ी है। इसे 200 मीटर चौड़ा और 2600 मीटर लंबा बनाना होगा। जो सुपर इंपोज प्लान तैयार किया गया है उसमें यही रिपोर्ट दी गई है कि एमडीए, वन विभाग की जमीनों से यह काम पूरा हो सकता है। कुछ जमीन किसानों से ली जा सकती है।

यह भी प​ढ़ें: ‘आया’ से प्रसव के बाद नवजात की मौत, बिल नहीं देने पर मां को बना लिया बंधक, फिर ये हुआ…

इसके बाद एएआई ने मेरठ सहित देश के 134 हवाई रूटों पर उड़ान के लिए कंपनियों से प्रस्ताव मांगे थे। जिसमें मेरठ-लखनऊ-इलाहाबाद के लिए गुरुग्राम की एयरलाइंस कंपनी जूम एयर ने सिंगल बोली लगाई थी। एयरपोर्ट अथॉरिटी ने बिड को स्वीकार कर जूम एयर के प्रस्ताव को अंतिम स्वीकृति के लिए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय भेजा था। इसके बाद जूम एयर को लेटर ऑफ इंटेंट भी जारी हुआ, लेकिन विकास कार्य पूरे नहीं होने के कारण हवाई पट्टी पर​ विकास कार्य पूरे नहीं हो सके थे। अब सीएम योगी आदित्यनाथ ने हवाई उड़ान के लिए विकास कार्य शुरू कराने की पहल की है।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here