जयंत पर लाठीचार्ज के विरोध में रालोद ने कमिश्नरी घेरी, सीएम का पुतला जलाने की कौशिश

0
316

मेरठ। हाथरस में पीड़िता के परिवार से मिलने गये रालोद के जयंत चौधरी पर हुए लाठीचार्ज के विरोध में और कृषि विधेयक पर तमाम कार्यकर्ताओं ने कमिश्नरी को घेर लिया और प्रदेश सरकार पर जमकर निशाना साधा। रालोद नेताओं ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का पुतला फूंकने का प्रयास किया। पुतला दहन रोकने को लेकर पुलिस की रालोद नेताओं से काफी धक्का मुक्की और नोंकझोंक हुई। लेकिन पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करके कार्यकर्ताओं के हाथों से पुतला ​छीन लिया और उन्हें वहां से खदेड़ दिया।
हाथरस में रालोद नेता जयंत चौधरी अपने समर्थकों के साथ पीड़िता के परिवार से मिलने गये थे। पुलिस ने पीड़िता के परिवार से मिलने आये सपा समर्थकों और रालोद कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज कर दिया। वहीं पुलिस ने जयंत चौधरी पर भी लाठीचार्ज किया था। लेकिन उस वक्त रालोद के कार्यकर्ताओं ने उन्हें घेरे में लकर बचा लिया था।
रालोद के कार्यकर्ता अपने नेता जयंत चौधरी पर हुए लाठीचार्ज से काफी गुस्से में थे। प्रदेश के पदाधिकारियों के नेतृत्व में सैकड़ों कार्यकर्ता ट्रैक्टर ट्रालियों में भरकर कमिश्नरी पहुंच गये। रालोद नेताओं ने प्रदेश के मुख्यमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की और सरकार को हाथरस की घटना में मुख्य जिम्मेदार ठहराया। रालोद नेताओं ने कृषि विधेयक पर विरोध जताया और इसे वापस लेने की मांग की। रालोद नेताओं ने सरकार पर लोकतंत्र की हत्या करने का अरोप लगाया।
जिलाध्यक्ष राहुल देव ने कहा आजादी के बाद सभी को हक है कि वह अपनी बात रख सके। लेकिन भाजपा सरकार सत्ता के नशे में है। जो किसी की बात सुनने को तैयार नहीं है। प्रदेश के संगठन मंत्री राजकुमार सांगवान ने कहा कि मुख्यमंत्री को बचाने ​के लिए अफसर इस तरह की कार्रवाई कर रहे है। मुख्यमंत्री घटना को दूसरी तरफ मोड़ने का प्रयास कर रहे हैं। प्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री बौखला गये है। कल जयंत चौधरी पर कातिलाना हमला करवाया गया है।

प्रदेश सरकार के कुछ अधिकारी उन्हें खुश करने के लिए लाठीचार्ज और गलत मुकदमे लगा रहे हैं। प्रदेश सरकार बौखला गई है। पीड़ित पक्ष के नारको टेस्ट करवाने की पहली घटना है। जबकि नारको टेस्ट तो आरोपी पक्ष का होना चाहिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश की जनता जब सड़कों पर उतरेगी तो सरकार को उखाड़ फेंकेगी। मुख्यमंत्री घटना को दूसरी तरफ मोड़ने का काम कर रहे हैं इसके भयंकर दुष्परिणाम होंगे इसके बाद रालोद कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री का पुतला दहन करने के लिए जैसे ही पुतले को आग के हवाले करना चाहा तो पुलिस ने उन्हें रोक लिया। इस दौरान पुतला छीनने को लेकर पुलिस की कार्यकर्ताओं से काफी धुक्का मुक्की हुई। पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करके पुतला छीन लिया और उन्हें वहां से खदेड़ दिया।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here