गर्भवती महिलाओं के लिए घातक Pencil Heel Footwear पहनना, हो सकते हैं ये परिणाम

पैंसिल हील फुटवियर के इस्तेमाल करने से 20 प्रतिशत महिलाएं घुटने व रीड़ की हड्डी के दर्द से पीड़ित पाई जा रही है

0
159

-डॉ. सुनील सागर

मेरठ। फैशन के दौर में गर्भवती महिलाओं का पैंसिल हील फुटवियर पहनना घातक साबित हो सकता है। क्योंकि गर्भवती महिला का पेट बहार निकलने से शरीर का संतुलन बिगड़ जाता है। इसी कारण उनके गिरने की संभावना ज्यादा बढ़ जाती है। संतुलन बिगड़ने से अधिकतर महिलाएं पेट के बल ही गिरती हैं, इसी कारण गर्भपात होने कि ज्यादा संभावना बनी रहती है।

 Panchyat chunav: यूपी में मार्च 2021 तक बन जाएंगी ग्रामीण सरकार, अधिसूचना हुई जारी, गांवों में सरगर्मी बढी

जहरीली शराब से हुई मौत पर सपा की महापंचायत, प्रदेश सरकार को घेरा

एक रिसर्च में पाया गया है कि पैंसिल हील फुटवियर गर्भवती महिलाओं के लिए ही घातक साबित नहीं हैं बल्कि इसके लगातार इस्तेमाल करने से 20 प्रतिशत महिलाएं घुटने व रीड़ की हड्डी के दर्द से पीड़ित पाई जा रही है। इसके अलावा पूरे शरीर पर इसका गलत प्रभाव होता है।

CBI Court 30 सितंबर को सुनाएगी बाबरी विध्वंस केस का फैसला, इनकी हाजिरी होगी जरूरी

पीड़िता ने पुलिस अफसरों को सुनाई गैंग रेप की रूह कंपा देने वाली आपबीती, हत्या करना चाहते थे आरोपी

– स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. काशिका सिंह चौहान ने बताया कि गर्भवती महिलाओं को पेंसिल हील फुटवियर नहीं पहननी चाहिए। यदि पहननी ही हैं तो सावधानियां बरतें, जैसे कि पोछा लगाते वक्त, सीढ़ियां चड़ते समय, बाथरूम में पेंसिल हील फुटवियर का प्रयोग नहीं करना चाहिए। इसके प्रयोग से पैरों पर सूजन आने की सम्भवाना ज्यादा बनी रहती है। उन्होंने यह भी बताया कि पेंसिल हील फुटवियर पहनने से रीड़ की हड्डी का बैलेंस नहीं बन पता है। इसी कारण रीड़ की हड्डी में दर्द होना चालू हो जाता है रीड की हड्डी की समस्या से अनेकों रोग घेर लेते है।

नगर आयुक्त, डिप्टी सीएमओ समेत तीन डॉक्टर कोरोना संक्रमित, 196 नए केसों से आंकड़ा 6500 के पास

Meerut के नए DM के. बालाजी ने संभाला चार्ज, मेडिकल कॉलेज के निरीक्षण पर निकले

क्या करें गर्भवती घायल महिला

घायल होने पर तुरन्त स्त्री रोग विशेषज्ञ के सम्पर्क करें। अगर गर्भ तीन से चार महीने का है तो चिकित्सक को डायलेटेशन, इवाक्युएशन की जरूरत पढ़ सकती है। क्योंकि ऐसी स्थिति में मृतक भू्रण में कीटाणु रोग व अनियन्त्रित रक्तस्राव की संभावना ज्यादा बनी रहती हैं। ऐसी स्थिति में ध्यान रहे कि पंजीकृत डॉ. का ही चुनाव करना चाहिए।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here