union budget 2021: बैंक डूबने पर ग्राहकों नहीं हैं परेशान होने की जरुरत, अब 1 लाख की जगह मिलेंगे 5 लाख रुपए

बजट मे सरकारी कंपनियों की अतिरिक्त जमीन को बेजने का भी प्रावधान, दो सरकारी बैंकों का होगा निजिकरण

0
179

नई दिल्ली: बैंक डूबने पर अब आपको बहुत ज्यादा परेशान होने की जरुरत नहीं है। क्योंकि आम budget 2021 में बैंक डूबने पर व्यवस्था में वित्त मंत्री ने बदलाव किया है। जी हां अब बैंक डूबने पर ग्राहक को एक नहीं बल्कि पांच लाख रुपए दिए जाएंगे। बजट जारी होने के बाद सभी बैंकों को लिखित में आदेश भी भेज दिया गया है।  साथ ही बैंकों के डूबने पर वित्त मंत्री ने एक कंपनी बनाने का भी ऐलान किया है।

CBSE ने जारी की 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं की डेटशीट, जानिए Exam की तारीख

दरअसल,  अभी तक बैंक के डूबने पर ग्राहक को इंश्योरेंस की रकम एक लाख रुपए दी जाती थी, जिसे budget 2021 में बढाकर पांच लाख रुपए कर दिया गया है। ऐसे में यदि बैंक डूब जाता है साथ ही आपका मोटा पैसा बैंक में पड़ा है, तो ऐसी कंडिशन में आपको बैंक पांच लाख रुपए इंश्योरेंस की धनराशि के रुप में खाताधारक को pay करेगा।

meerut: दहशत बरकरार, तंदुए ने दिया वन विभाग की टीम को चकमा

बनाई जाएगी कंपनी

साथ ही बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने ये भी तय किया है कि बैंक क्यों डूबा, या बैंक को कैसे उबारा जाए इसके लिए एक कंपनी का निर्माण करने की भी योजना बनाई है। बजट में बैंकों को रिकैपिटलाइजेशन के लिए 20 हजार करोड़ रुपए देने की घोषण की भी गई है। अपने बजट भाषण में वित्तमंत्री ने कहा कि सरकार बैंकों को 20 हज़ार करोड़ रुपये की पूंजी उपलब्ध कराएगा। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बताया कि इसे डेवलपमेंट फाइनेंस इंस्टिट्यूशन का नाम दिया जाएगा।

सरकारी बैंकों का निजिकरण

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने अपने बजट भाषण में कहा की सरकार इस वर्ष दो सरकारी बैंकों का निजिकरण भी करेगी। इसके साथ ही सरकारी कंपनियों की अतिरिक्त जमीन बेची भी जाएगी।

किसान आंदोलन के जरिए सियासी जमीन बनाने में जुटा रालोद

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here