दिग्गजों को मात दे, मोहित बेनिवाल बने BJP वेस्ट के क्षेत्रिय अध्यक्ष, उठने लगे बगावत के शुर

नेताओं का मानना वरिष्टता पर लॅाबिंग पड़ी भारी, कई वरिष्ठ नेताओं के चल रहे थे नाम

0
803

MEERUT। जब से बीजेपी ने अपनी नई प्रदेश टीम घोषित की है। तभी से क्षेत्रिय अध्यक्ष को लेकर खींचतान चल रही थी। देवेन्द्र चौधरी को प्रदेश उपाध्यक्ष बनने के बाद साफ हो गया था कि अब किसी वरिष्टतम बीजेपी नेता को वेस्ट यूपी का अध्यक्ष बनाया जाएगा,  लेकिन वरिष्ठता लोबिंग के सामने घुटने टेकती नजर आई। शुक्रवार दोपहर को मोहित बेनिवाल को हाईकमान ने वेस्ट यूपी का अध्यक्ष घोषित कर दिया। दबी जुबान से कई वरिष्ठ नेता इसका विरोध भी कर रहें हैं।

कौन हैं सैयद ज़फ़र इस्लाम, जिन्हे भाजपा उत्तर प्रदेश सीट से राज्यसभा भेजने जा रही है

इन नेताओं का चल रहा था नाम 

प्रदेश बीजेपी टीम घोषित होते ही क्षेत्रिय अध्यक्षों को लेकर सिफारिस और लोबिंग का दौर शुरु हो गया था। वेस्ट यूपी की अगर बात करें तो मेरठ से विमल शर्मा, गाजियाबाद से वाईपी सिंह, बुलंदशहर से डीके शर्मा और गौतमबुधनगर से सत्येन्द्र सिसोदिया का नाम मुख्य रुप से चल रहा था। राजनीतिक पंडित भी इन्ही चारों नाम में  से किसी को वेस्ट का अध्यक्ष मान कर चल रहे थे, लेकिन घोषणा होते ही सभी के कयास धरासायी हो गए। इसके साथ ही पार्टी के एक धडें में आरोप- प्रत्यारोप दौर भी शुरु हो गया है। पार्टी के नेताओं का मानना है कि अब बीजेपी में वरिष्ठता से ज्यादा परिक्रमा मायने रखने लगी है। मोहित बेनिवाल के अलावा पार्टी ने और 5 क्षेत्रीय अध्यक्ष का ऐलान कर दिया है।

NCERT की नकली बुक छापने के मामले में शुरु हुई राजनीति, समाजवादियों ने की आरोपी बीजेपी नेता पर रासूका की मांग

बता दें कि यूपी बीजेपी की नई कार्यकारिणी में क्षेत्रीय अध्यक्ष अश्विनी त्यागी को महामंत्री बनाए जाने के बाद यह पद खाली था। इसके बाद से ही क्षेत्रीय अध्यक्ष के पद के लिए नए चेहरे की तलाश शुरू हो गई थी। शामली के रहने वाले मोहित भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश मंत्री रह चुके हैं। फिलहाल मोहित पश्चिम यूपी संगठन में निवर्तमान महामंत्री हैं। मूलरूप से गांव खेड़ा गदई निवासी मोहित बेनीवाल ने इंटर तक की पढ़ाई शामली के वीवी इंटर कॉलेज से की। इसके बाद आईआईटी दिल्ली से बीटेक किया। इसके बाद मोहित भाजपा की राजनीति में सक्रिय हुए। मोहित को भाजपा ने नवमतदाता अभियान के प्रदेश संयोजक भी बनाया था। जबकि 2017 के विधानसभा चुनाव और फिर नगर निकाय चुनाव में बिजनौर जनपद में मुख्य जिम्मेदारी निभाई थी। हालाकि नेताओं की माने तो  मोहित बेनिवाल का कद अभी पार्टी के क्षेत्रिय अध्यक्ष लायक नहीं था। पार्टी के एक धडें का मानना है कि मोहित बेनिवाल कोई जनाधार वाला नेता नहीं है।

अब पहले से ज्यादा सख्त होगा weekly lockdown, CM ने सभी जिलों के जिलाधिकारियों को दिए निर्देश

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here