किसी कंपनी की फ्रेंचाइजी लेना चाहते हैं तो ध्यान से पढ़ें , नहीं तो उठाना पड़ सकता है भारी नुकसान

देश की मशहूर कंपनियों की फ्रेंचाइजी देने के नाम पर इन ठगों ने हर व्यक्ति से 20-50 लाख रुपये तक ठगे हैं.

0
172

नई दिल्ली। अपने कारोबार का सपना देखने वाले लोगों को अब सावधानी से कदम आगे बढ़ाने की जरूरत है. उत्तर प्रदेश के नोएडा में कंपनियों की फ्रेंचाइजी देने वाले एक गैंग का पर्दाफाश हुआ है. नोएडा पुलिस ने करोड़ों रुपये की ठगी करने वाले इस गैंग के 4 सदस्यों को गिरफ्तार किया है. इनके पास से 10 करोड़ रुपये का सामान और कैश बरामद किया गया है. इस धोखाधड़ी का मुख्य अभियुक्त राजेश कुमार अभी फरार है.

बेटे को परीक्षा दिलाने के लिए पिता ने 105 किमी चलाई साइकिल, आनंद महिंद्रा देंगे तोहफा

फ्रेंचाइजी देने के इस फर्जीवाड़े का खुलासा तब हुआ जब इस कंपनी की ठगी के शिकार लोगों ने पुलिस के पास शिकायत करनी शुरू की. अपना बिजनेस करने के इच्छुक लोगों को हाइपर मार्ट की फ्रेंचाइजी दिलाने के नाम पर ये लोग लाखों रुपये वसूल कर गम हो जाते थे.आरोपी साल 2019 से नोएडा से इस भरी भरकम ठगी का धंधा चला रहे थे. इन ठगों ने बिहार, गुजरात, छत्तीसगढ़, समेत कई राज्यों के हजारों लोगों के साथ ठगी की है. हाइपर मार्ट जैसी कंपनी की फ्रेंचाइजी देने के नाम पर ये लोगों से एडवांस रकम लेते थे. अभी तक 5 ऐसी फर्जी कंपनियों का पता लगा है. पुलिस को आशंका है कि ऐसी तकरीबन 100 फर्जी कंपनी बनाकर हजारों लोगों को फ्रेंचाईजी देने के नाम पर करोड़ों रुपये का चूना लगाया गया है.

सदन में CM Yogi को अचानक आई Meerut की याद…फिर पढ़ी ऐसी शायरी कि Social Media पर हो गई वायरल

ये माल हुआ बरामद

ठगी के आरोपियों के पास से 3 किलो 330 ग्राम सोने के बिस्किट और करीब 2 करोड़ रुपये के गहने बरामद किए गए हैं. इसके साथ ही फ्रेंचाइजी के नाम पर फर्जीवाडा करने वाले इन लोगों से 242 ग्राम चांदी के सिक्के और 13.54 लाख रुपये की नकदी भी जब्त हुई है.फर्जीवाड़ा करने वाले लोगों के पास से 5 कार, 63 लैपटॉप, 27 मोबाइल, 4 एलईडी टीवी, 4 यूपीएस, 5 प्रिन्टर, 37 बार कोड स्कैनर, 5 डीवीआर, 117 एटीएम कार्ड, 69 पैन कार्ड भी बरामद किए गए हैं.

नोएडा के अतिरिक्त उपायुक्त (सेंट्रल नोएडा) अंकुर अग्रवाल ने कहा, “हमारे पास कई शिकायतें आईं कि एक कंपनी फ्रेंचाइजी देने के नाम पर लोगों से पैसे लेती थी और अब उसके ऑफिस बंद हो गए हैं. लोग कंपनी के मालिक भी संपर्क नहीं कर पा रहे हैं. पुलिस ने जब इन शिकायत पर जांच शुरू की तो पता चला कि ये सारी कंपनियां फर्जी हैं.”देश की मशहूर कंपनियों की फ्रेंचाइजी देने के नाम पर इन ठगों ने हर व्यक्ति से 20-50 लाख रुपये तक ठगे हैं. अतिरिक्त उपायुक्त ने बताया कि अब तक इस गिरोह के 4 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है. एक आरोपी फरार है. इनके पास से 10 करोड़ रुपये का सामान बरामद हुआ है.

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here