Meerut में फांसी के फंदे पर झूला शिक्षक, वेतन न मिलने से नहीं भर पा रहा था बाइक की किस्त

आर्थिक तंगी की वजह से आशीष ने रविवार अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली

0
220

मेरठ। दिल्ली रोड स्थित दीवान इंटरनेश्नल स्कूल से दिल दहलाने वाली खबर सामने आई है। यहां एक कोरोयोग्राफर के पद पर नौकरी करने वाले शख्स ने सुसाइड कर लया था। जानकारी के अनुसार स्कूल ने पिछले छह महीनों से उसे वेतन नहीं दिया था, जिसके चलते वह आर्थिक तंगी से जूझ रहा है। माना जा रहा है कि इसी आर्थिक तंगी की वजह से आशीष ने रविवार अपने घर में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली। वहीं, स्कूल प्रबंधन पर शिक्षक के शोषण का आरोप लगा है। बताया जा रहा है कि इतनी बड़ी घटना के बाद भी स्कूल प्रबंधन ने मृतक के परिजनों से संपर्क साधना तक मुनासिब नहीं समझा। पुलिस ने इस मामले में मिली तहरीर पर घटना की जांच शुरू कर दी है।

 मुजफ्फरनगर : मशहूर शायर अशोक साहिल का निधन, गुर्दे में संक्रमण का लंबे समय से चल रहा था इलाज

वहीं, मृतक के परिजनों का आरोप है कि आशीष को पैसों की जरूरत थी और वह रोजाना स्कूल की प्रधानाचार्य को वेतन के लिए फोन किया करता था। लेकिन इस कोई सुनवाई नहीं हुई। जानकारी के अनुसार आशीष ने किस्तों पर एक बाइक भी ली थी, जिसकी उसको ईएमआई भरनी पड़ रही थी। इसके साथ आशीष के परिवार की आर्थिक स्थिति भी बहुत अच्छी नहीं थी। दूसरी ओर घटना के बाद जब जानकारी के लिए दीवान स्कूल का पक्ष जाननें का प्रयास किया गया, तो स्कूल में सन्नाटा पसरा मिला। स्कूल का मेन गेट बंद पाया गया। इसके बाद जब प्रिंसपल रूचि शर्मा से फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया गया तो बात नहीं हो सकी।

 CWC की बैठक में सोनिया गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने की पेशकश की

आपको बता दें कि कोरोना काल में समय पर वेतन न दिए जाने का यह पहला मामला नहीं है। नाम न छापने की शर्त पर कई शिक्षकों ने बताया कि उनको भी कई महीनों का वेतन नहीं दिया गया है।

 

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here