बिजनौर: परिवहन मंत्री के पिता ने रचा इतिहास, निर्विरोध चुने गए ग्राम प्रधान!

0
117

बिजनौर: उत्तर प्रदेश में त्रिस्तरीय पंचायत चुनावों के चलते राज्य का चुनावी माहौल गरम है। ग्राम पंचायत से लेकर जिला पंचायत तक में उम्मीदवारों ने चुनावी मैदान जीतने के लिए दिन-रात एक कर रखी है। इस बीच प्रदेश की एक ग्राम पंचायत ऐसी भी है, जहां एक शानदार मिसाल पेश की गई है। यह गांव है भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता और राज्य के परिवहन मंत्री अशोक कटारिया का।

Corona infection: अगर हैं ये लक्षण तो भी करा लें कोरोना की जांच, दूसरी लहर में नहीं लग पा रहा लक्षणों से कोरोना का पता

किसी ने ग्राम प्रधान पद के लिए पर्चा दाखिल नहीं किया

दरअसल, जिले के हीमपुर पृथ्या गांव में के लोगों ने मंत्री अशोक कटारिया के पिता रुमाल सिंह को निर्विरोध प्रधान चुनकर प्रदेश में एक नए मिसाल पेश की है। हालांकि चुनावी प्रक्रिया संपन्न होना अभी शेष है, लेकिन उनके सामने सामने किसी ने ग्राम प्रधान पद के लिए पर्चा दाखिल नहीं किया है और इस तरह वह गांव में अकेले उम्मीदवार हैं। जिस वजह से उनका ग्राम प्रधान चुना जाना तय है। जिसकी घोषणा चुनावी कार्यवाही पूर्ण होने के बाद ही की जाएगी। गांव के बुजुर्गों की मानें तो यह पहला ऐसा मौका है, जब कोई शख्स निर्विरोध प्रधान चुना जाएगा।

Corona update: कोरोना को लेकर यूपी के सभी जिलों में धारा 144 लागू, चुनाव प्रचार के दौरान 5 से ज्यादा लोग नहीं हो सकेंगे एकत्र

रुमाल सिंह को निर्विरोध प्रधान चुने जाने पर सहमति बनी

जानकारी के अनुसार हीमपुर पृथ्या में पिछले दिनों एक पंचायत का आयोजन किया गया। इस पंचायत में मंत्री अशोक कटारिया के पिता रुमाल सिंह को निर्विरोध प्रधान चुने जाने पर सहमति बनी। जिसके बाद रुमाल सिंह ने ब्लॉक कार्यालय जाकर पर्चा दाखिल किया। किसी ने भी उनके सामने उम्मीदवारी की दावेदारी नहीं की। आपको बता दें कि रुमाल सिंह की ईमानदारी और कर्तव्यनिष्ठा के चर्चे आसपास के गांव में भी मशहूर हैं। बेटे अशोक कटारिया की अनुपस्थिति में रुमाल सिंह क्षेत्र के लोगों की समस्या का निदान करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here