strike: मार्च में चार दिनों तक बंद रहेंगे बैंक, जाने कर्मचारियों ने strike की क्या बनाई रणनीति

बैंकों के निजीकरण के खिलाफ हड़ताल पर रहेंगे बैंककर्मी, सरकार के खिलाफ प्रदर्शन की भी बनाई रणनीति

0
180

meerut: अगर आप मार्च में कोई बैंक संबंधी काम करने का प्लान बना रहे हैं तो सतर्क रहें, क्योंकि मार्च के महिने में लगातार चार दिनों तक बैंक बंद रहने वाले हैं। बैंक कर्मियों ने दो दिनों तक काम से विरत रहने की रणनीति तैयार की है वहीं दो दिन दूसरा शनिवार और रविवार के कारण लगातार चार दिन बैंक में कोई काम नहीं हो सकेगा। क्रमसः 13, 14, 15 और 16  को कोई काम नहीं हो सकेगा। इसलिए अपना बैंक संबंधी काम पहले ही निपटा लेंगे तो अच्छा होगा।

Bulandshar: गोतस्कर पुलिस मुठभेड़ में घायल, 500 किलो गोमांस के साथ रंगे हाथ दबोचे

निजीकरण का विरोध

सरकार ने हाल ही पेश हुए बजट में कई बैंकों के निजीकरण का प्रावधान किया है। जिसके चलते बैंक कर्मियों की यूनियन ने विरोध जताने के लिए 15 और 16 मार्च को हड़ताल की तारीख नियत की है। वहीं 13 को सैकेंड satuarday और 14 को sunday है। इसलिए चार दिनों का बैंकों के गेट पर आपको ताले लटके मिलेंगे तो आश्चर्य मत करियेगा।
meerut: अब शबनम को फांसी पर लटकाएगा पवन जल्लाद, अपने ही परिवार के 7 लोगों की हत्यारी है शबनम

बैंक कर्मियों का कहना है कि पहले तो सरकार ने कई बैंकों का विलय किया। उसके बाद सरकार अब इन बैंकों को निजी हाथों में देना चाहती है। उन्होंने कहा कि इससे बैंककर्मियों के साथ ही बैंक के खाताधारकों केा भी परेशानी का सामना करना पड़ेगा। यूनियन बैंक के प्रबंधक राजेंद्र शर्मा ने कहा कि आज खाता धारकों को निशुल्क बैंक की सुविधाएं मिल रही हैं निजी हाथों में बैंकों के जाने के बाद खाता खोलने के लिए भी शुल्क देना होगा और बैंक की सभी सुविधाओं पर शुल्क लगना शुरू हो जाएगा। जिससे ग्राहकों को भी काफी नुकसान उठाना पड़ेगा। वहीं बैंककर्मियों को काफी मेहनत के बाद मिली सरकारी नौकरी प्राइवेट हो जाएगी। जिसे यूनियन कभी बर्दाश्त नहीं करेगी।

meerut: विधायक के पक्ष में आया प्रधान संघ, अधिकारियों को सौंपा मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन

तुगलकी फरमान

बैंक कर्मियों ने कहा कि इस तुगलकी फरमान को वह लागू नहीं होने देंगे। इसके लिए चाहे उन्हे भूख हड़ताल पर ही क्यों न रहना पड़े। अभी तो सिर्फ दो दिनों का ही धरना है। यदि सरकार के कानों पर जूं नहीं रेंगी तो अनिश्चितकालीन धरने की और भी कदम बढ़ाएंगे। साथ ही सड़कों पर उतरकर प्रदर्शन करने से भी बैंककर्मी पीछे नहीं हटेंगे।

Bulandshar: गोतस्कर पुलिस मुठभेड़ में घायल, 500 किलो गोमांस के साथ रंगे हाथ दबोचे

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here