Ayodhya: RSS प्रमुख भागवत ने LK आडवाणी को किया याद, बोले- इसलिए कार्यक्रम में नहीं हुए शामिल

अयोध्या पहुंचने पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हेलिपेड पर पीएम मोदी का स्वागत किया

0
165

अयोध्या। देश में कोरोना महामारी के बाद बुधवार को दिन बेहद खास रहा। आज यानी बुधवार को मर्यादा पुरुषोत्तम राम की अवधनगरी में राम मंदिर निर्माण की नींव पड़ गई। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन में भाग लेने पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यहां पूजा अनुष्ठान में भाग लिया। अयोध्या पहुंचने पर उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हेलिपेड पर पीएम मोदी का स्वागत किया। पीएम मोदी यहां से सीधा हनुमान गढ़ी मंदिर पहुंचे। यहां पूजा अर्चना करने के बाद प्रधानमंत्री राम मंदिर निर्माण पूजा स्थल पर पहुंचे। इस दौरान पीएम मोदी ने मंदिर परिसर में पारिजात का पौधा भी लगाया।

बैंक में खाता खुलवाते समय इन बातों का रखे ध्यान, नहीं हो जाएगा भारी नुकसान

इस दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत ने अपने संबोधन में कहा कि ‘सब में राम है और राम सब के हैं’। संघ प्रमुख मोहन भागत ने राम मंदिर भूमि पूजन के इस अवसर पर उन सभी लोगों को याद किया जिन्होंने राम मंदिर आंदोलन में अपना योगदान दिया। मोहन भागवत ने ​कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के साथ—साथ सभी लोग अपने मन मंदिर का भी निर्माण करेंगे। भागवत ने कहा कि इस शुभ घंड़ी के इंतजार में हमारी न जानें कितनी पीढ़ियां गुजर चुकी हैं। आज हमारी सदियों की आस पूरी हुई है, इसलिए पूरे देश में खुशी का माहौल है। भागवत ने कहा कि आज के दिन से हमं प्रेरणा लेनी चाहिए।

लखलऊः साधु के वेश में अयोध्या जा रहे आजम खान को पुलिस ने दबोचा, कैसरबाग थाने में हो रही पूछताछ

social media भी राममय, भगवा रंग में रंगे facebook twitter watsap , हर 5 सेकेंड में राम मंदिर को लेकर पोस्ट

संघ प्रमुख ने कहा कि यह सबसे बड़ा आंनद है, भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए जिस आत्मविश्वास की आवश्यकता थी, उसका शुभारंभ आज हो रहा है। संघ प्रमुख मोहन भागवत ने कहा, यह आनंद का क्षण है, बहुत प्रकार से आनंद है। एक संकप्ल लिया था और मुझे स्मरण है तब के हमारे संघ सरसंघ चालक बालासाहेब देवरस जी ने यह बात हमको कदम आगे बढ़ाने से पहले याद दिलाया था की बहुत लग कर 20- 30 साल काम करना पड़ेगा। तब कहीं यह काम होगा और और 30वें साल के प्रारंभ में हमको संकप्ल पूर्ति का आंनद मिल रहा है। प्रयास किए है, जी-जान से अनेक लोगों ने बलिदान दिए हैं। वह सूक्ष्म रूप में यहां उपस्थित हैं। प्रत्यक्ष रूप में उपस्थित हो नहीं सकते।” मोहन भागवत अपने संबोधन में पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी का नाम लेना नहीं भूले। उन्होंने कहा कि देश में कोरोना वायरस प्रकोप की वजह से कई लोग इस कार्यक्रम में शामिल नहीं हो पाए, आडवाणी जी भी नहीं, लेकिन वह अपने घर में बैठ कर इस कार्यक्रम को देख रहे होंगे।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here