रिटायर्ड हेड कांस्टेबल की बेटी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत, हुआ कुछ ऐसा कि श्मशान घाट से शव पहुंच गया मोर्चरी

मेरठ के सुभाष नगर गली नंबर दो के ​रिटायर्ड हेड कांस्टेबल की बेटी की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। पड़ोसियों ने उसकी हत्या की आशंका जताते हुए पुलिस को इसकी सूचना दी। शनिवार की सुबह श्मशान घाट पर पुलिस पहुंची तो शव को मोर्चरी भिजवाया।

0
241

मेरठ। पुलिस (Police) के रिटायर्ड हेड कांस्टेबल (Rtd. Head Constable) की बेटी की संदिग्ध परिस्थितियों (Suspicious Circumstances Death) में मौत हो गई। परिवार के लोगों ने इस बारे में किसी को नहीं बताया और शनिवार की सुबह श्मशान घाट (Shamshan Ghat) में दाह संस्कार के लिए पहुंच गए। अंतिम संस्कार की तैयारी चल ही रही थी कि वहां पुलिस पहुंच गई और पूछताछ करने के बाद शव (Deadbody) को अपने कब्जे में लेने लगी। इसका विरोध भी हुआ, लेकिन पुलिस ने युवती के शव को पोस्टमार्टम (Postmortem) के लिए मोर्चरी भिजवाया दिया। पुलिस का कहना है कि पोस्टमार्टम के बाद ही मौत के कारण के बारे में बताया जा सकता है।

यह भी पढ़ें: Meerut में Delhi Police का छापा, हिस्ट्रीशीटर राहुल काला के गोदाम से मिले चोरी हुई ​47 बाइकों के इंजन

सिविल लाइन थाना क्षेत्र के गली नंबर दो सुभाष नगर निवासी जगजीत सिंह 2010 में यूपी पुलिस से हेड कांस्टेबल के पद से रिटायर्ड हो गए थे। शुक्रवार देर रात उनकी 30 वर्षीय बेटी रूपाली ने घर में ही फांसी लगा ली। परिजन उसे देर रात सुशीला जसवंत रॉय अस्पताल लेकर गए, लेकिन डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। शनिवार सुबह के समय परिजन युवती का अंतिम संस्कार करने सूरजकुंड श्मशान घाट लेकर गए थे। हत्या की आशंका जताते हुए पड़ोसियों ने पुलिस को सूचना दे दी। पुलिस ने श्मशान घाट से ही शव को अर्थी से उठाकर मोर्चरी भिजवा दिया। सिविल लाइन इंस्पेक्टर अब्दुल रहमान सिद्दकी का कहना है कि अभी तक मामले में कोई तहरीर नहीं आई हैं। पोस्टमार्टम के बाद युवती की मौत के कारण का पता चल सकेगा। उसके बाद जांच शुरू की जाएगी।

यह भी पढ़ें: इस साल सिर्फ पांच दिन ही बजेगी शहनाई, फिर अप्रैल में ही आएगा शादी करने का मुहूर्त

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here