Bulandshahr में फिर होते बचा बिकरू कांड, पुलिस टीम पर फायरिंग करके 7 फरार, ​87 गोवंश के साथ नौ महिलाएं गिरफ्तार

दबिश के दौरान यूपी पुलिस को तैयारी के साथ जाने की गाइडलाइन हैं। ये बिकरू कांड के बाद बनाई गई थी, लेकिन बुलंदशहर पुलिस ने ​फिर लापरवाही दिखाई और गो हत्या ​की तैयारी में जुटे राजस्थान के लोगों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया और सात आरोपी मौके से फरार हो गए।

0
279

बुलंदशहर। बुलंदशहर में कानपुर का ​बिकरू कांड फिर होते-होते बचा। रविवार की रात को शेखुपर गांव के जंगल में गोहत्या की तैयारी कर रहे लोगों ने पुलिस टीम पर फा​यरिंग करके सात आरोपी फरार हो गए। बाद में पुलिस ने कड़ी कार्रवाई करते हुए नौ महिलाओं को गिरफ्तार किया है। साथ ही 87 गोवंश बरामद किए हैं। पुलिस इनको तलाश रही है। ये सभी राजस्थान के लोग ​हैं। गांव शेखुपर के जंगल में कांबिंगग चल रही है और फरार हुए लोगों को ढूंढ़ा जा रहा है।

यह भी पढ़ें: MEERUT के तेल के ‘खेल’ में लाइसेंस निरस्त, शासन तक ​पहुंची थी माफिया की बड़ी गड़बड़ियां

पुलिस को ​देर रात मुखबिर से ​सूचना मिली थी कि गांव शेखूपुर के जंगल में राजस्थान के कुछ लोग 87 गोवंशों को लेकर आए हुए हैं और गो हत्या की तैयारी की जा रही है। सूचना पर छतारी थाना प्रभारी योगेंद्र कुमार पुलिस टीम के साथ मौके पर पहुंचे, जहां घेराबंदी करते हुए आरोपियों को पकड़ने की कोशिश की तो आरोपियों ने पुलिस टीम पर फायरिंग कर दी। आरोपी पुरुष ​मौके से फरार हो गए। बाद में पुलिस ने घेराबंदी कर मौके से नौ महिलाओं को हिरासत में ले लिया। पूछताछ के दौरान महिला ने अपने नाम सीता पत्नी गुलाब, मेवा पत्नी मनोज, कमला पत्नी पप्पू, भीता, संतोषी, गीता, काली, गीता पत्नी मुड़ा निवासी बानसूर थाना कोटामोड जनपद अलवर राजस्थान और प्रेम पत्नी गोपी निवासी काया मोड़ा थाना गाजी जनपद अलवर राजस्थान बताया। साथ ही बताया कि वे गो हत्या करने की योजना बना रहे थे।

यह भी पढ़ें: Unlock 5: त्योहारी सीजन में योगी सरकार के लिए होंगी नई चुनौतियां, इन स्थानों को खोलने की मिल सकती है छूट

पुलिस ने आरोपितों के कब्जे से 87 गौवंश, नशीला पाउडर, चार बाइक, चार छुरा, छह रस्सी आदि बरामद किया है। थाना प्रभारी ने बताया कि मामले में मुकदमा दर्ज कर पकड़ी गईं महिला को न्यायिक हिरासत में जेल भेजा जा रहा है। साथ ही फरार हुए आरोपितों की तलाश की जा रही है। बिकरू कांड में विकास दुबे ने दबिश करने आयी पुलिस टीम पर हमला करके आठ पुलिसकर्मियों को अपनी गोली का शिकार बनाया था। इसके बाद ​से यूपी डीजीपी की ओर से दबिश डालने के समय पुलिस को पूरी तैयारी के साथ जाने की ​गाइडलाइन जारी की थी, लेकिन इन गाइडलाइनों को नजरअंदाज किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें: छात्रवृत्ति के लिए बना ये कड़ा नियम, बीच में छोड़ दी पढ़ाई तो मिली धनराशि करनी होगी वापस

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here