CM Yogi ने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव गृह को भेजा Hathras, कानून व्यवस्था को लेकर दिया बड़ा बयान

हाथरस केस को लेकर पूरे देश में विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। विपक्षी दल योगी सरकार और प्रशासन पर सवाल उठा रहे हैं। ऐसे में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डीजीपी और अपर मुख्य सचिव गृह को हाथरस भेजा है।

0
179

लखनऊ/हाथरस। हाथरस केस (Hathras Case) को लेकर देश में धरना-प्रदर्शन हो रहा है। इसको लेकर सीएम योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) भी बेहद गंभीर हैं। जिला प्रशासन (Hathras District Administration) और पुलिस (Hathras Police) की किरकिरी होने के बाद उन्होंने एसपी (SP), डीएसपी (DSP) समेत पांच पुलिसकर्मियों को तो निलंबित कर ही दिया है, साथ ही हाथरस के गांव की वास्तविक स्थिति जानने के लिए उन्होंने डीजीपी (UP DGP) हितेश चंद्र अवस्थी और अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ​को यहां जाने के निर्देश दिए हैं। शनिवार की दोपहर दो बजे ये दोनों अफसर हाथरस पहुंच गए हैं। ये पीड़ित परिवार और जिला प्रशासन के अफसरों से बातचीत करेंगे। सीएम योगी ने लखनऊ में साइबर क्राइम की 14 दिन की कार्यशाला के दौरान कहा कि ​किसी भी अपराधी को बख्शा नहीं जाएगा।

यह भी पढ़ें: मेरठ के Priyam Garg ने IPL में मचायी धूम, पिता और कोच ने कही बड़ी बात

सीएम योगी ने कहा कि ​अपराधी आजकल अपराध के नए-नए तरीके खोज रहे हैं। इसलिए लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस पर ज्यादा है। उन्होंने हाथरस मामले पर कहा ​कि किसी के साथ ​अन्याय नहीं होगा। दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। इस मामले की जांच चल रही है और हर पहलू पर गंभीरता से काम हो रहा है। वहीं, इससे पहले सीएम योगी आदित्यनाथ ने हाथरस केस के लिए डीजीपी और अपर मुख्य सचिव गृह को हाथरस भेजा। ​दोनों हाथरस में करीब दो बजे तक पहुंचेंगे।

यह भी पढ़ें: बसपा सुप्रीमो Mayawati ने की Hathras Case की सीबीआई जांच की मांग

उधर, हाथरस के गांव ​में इन दोनों अफसरों के आने से पहले पुलिस सुरक्षा कड़ी कर दी है। पिछले दो दिन से मीडिया को गांव में घुसने से रोका जा रहा था। सुबह करीब साढ़े दस बजे मीडिया को गांव में जाने और पीड़ित परिवार से बातचीत करने की इजाजत दे दी गई। पीड़ित परिवार ने मीडिया से बातचीत में साफ कर दिया है कि वे नार्को टेस्ट नहीं कराएंगे। परिवार ने इस दौरान डीएम प्रवीण कुमार पर गंभीर आरोप लगाए हैं। परिवार के सदस्यों ने साफ कह दिया है कि हमें पुलिस पर भरोसा नहीं है और डीजीपी और अपर मुख्य सचिव गृह के साथ ​अकेले में बातचीत नहीं करेंगे, इसमें मीडिया की मौजूदगी रहनी चाहिए।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here