हमले के बाद कोमा में चले गए युवक की मौत से गुस्साई भीड़ ने थाना घेरा और पुलिस के खिलाफ खोला मोर्चा, ये है पूरा मामला

मेरठ के कंकरखेड़ा क्षेत्र में युवक पर हमला करके उसे कोमा पहुंचाने वाले चार आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग को लेकर लोगों ने रविवार को थाने में जमकर प्रदर्शन किया। ​युवक की देर रात मौत होने के बाद लोगों ने पुलिस पर आरोपियों को जानबूझकर गिरफ्तारी नहीं करने का आरोप लगाया है।

0
265

मेरठ। चार युवकों के हमले में घायल युवक की शनिवार की देर रात कोमा में होने के बाद हुई मौत से गुस्साए लोगों ने ​रविवार को कंकरखेड़ा थाने का घेराव किया और सड़कों पर जमकर हंगामा किया और खूब नारेबाजी की। जाम की ​वजह से वाहनों की लंबी कतारें लग गई। पुलिस प्रदर्शनकारियों को समझाने में जुटी रही। विदित है कि मेरठ में 22 सितंबर को कंकरखेड़ा के युवक प्रिंस पर चार युवकों ने जानलेवा हमला कर गंभीर रूप से घायल कर दिया था। हमलावरों से बचकर भागने के दौरान प्रिंस की बाइक डिवाइडर से टकरा गई और वो डिवाइडर से टकराकर कोमा में चला गया था। शनिवार देर रात नोएडा के हॉस्पिटल में भर्ती प्रिंस की मौत हो गई। पहले से नामजद जानलेवा हमले के मुकदमे में पुलिस अभी तक किसी भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई।

यह भी पढ़ें: Honour Killing: प्रेमी की पिटाई के बाद युवती ने लगा ली फांसी, परिवार ने गुपचुप कर दिया अंतिम संस्कार

कंकरखेड़ा थाना क्षेत्र की हाइडिल कॉलोनी निवासी 22 वर्षीय वैभव यादव उर्फ प्रिंस पुत्र स्वर्गीय राजेंद्र यादव को 22 सितंबर की सुबह कई युवकों ने लाठी-डंडों से बुरी तरह पीटा था। उसी दिन दोपहर 12:00 बजे प्रिंस ने थाने पहुंचकर आरोपियों के खिलाफ जानलेवा हमले की तहरीर दी थी। अगर पुलिस ने प्रिंस का मेडिकल नहीं कराया और न ही उसकी प्राथमिकी दर्ज की। 22 सितंबर की रात आठ बजे प्रिंस अपने घर से डॉक्टर के पास जा रहा था। हमलावरों ने उसे रोका और बुरी तरह पीटा। हमलावरों से बचने के लिए प्रिंस ने बाइक से भागने का प्रयास किया और वह डिवाइडर से टकराकर गिर गया। जिसके बाद प्रिंस कोमा में चला गया था।

यह भी पढ़ें: Meerut: पत्नी को कोल्ड ड्रिंक में दे दी नशे की गोली, साली से कर डाला बलात्कार

उसके परिजनों ने प्रिंस को नोएडा के फोर्टिस हॉस्पिटल में भर्ती कराया। 24 सितंबर की रात में परिजन अधिकारियों से मिले, जिसके बाद मुकदमा दर्ज हुआ। पुलिस ने आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की। अस्पताल में जहां उपचार के दौरान रविवार देर रात प्रिन्स की मौत हो गई। 22 सितंबर से अब तक एक भी आरोपी की गिरफ्तारी न होने से गुस्साई भीड़ ने रविवार को कंकरखेडा थाने का घेराव कर दिया। पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी की। सीओ दौराला संजीव कुमार दीक्षित ने जाम लगा रही भीड़ की बात सुनकर आश्वासन दिया कि वह 12 घंटे के भीतर आरोपितों की गिरफ्तारी कर सख्त कार्रवाई करेंगे।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here