8वीं और 9वीं पास युवक पढ़े-लिखे लोगों से कर रहे थे ठगी, फर्जी Aadhaar और PAN Card से किया ‘खेल’

फर्जी आधार कार्ड और पैन कार्ड के जरिए बैंक लोन और कोर्ट में जमानत के लिए फर्जी कागजात तैयार करने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार हुए हैं। पुलिस ने कोर्ट में फर्जी जमानत दिए जाने के बाद जांच करने के बाद दोनों को पकड़ा।

0
180

मेरठ। 8वीं और 9वीं तक पढ़ाई करने वाले युवकों ने पढ़े-लिखे लोगों को इस तरह बेवकूफ (Cheating With Educated People) बनाया कि पुलिस अफसर (Police Officers) भी हैरान रह गए हैं। इन दोनों युवकों समेत पूरा गिरोह फर्जी आधार कार्ड (Aadhaar Card) और पैन कार्ड (PAN Card) के जरिए लोन (Loan) और कोर्ट (Court) में जमानत के लिए जाली दस्तावेज (Fake Certificate) तैयार करते थे। कोर्ट में जमानत देने वाले व्यक्ति ​से पुलिस (Meerut Police) ने पूछताछ की तो गिरोह की ठगी सामने आयी। पुलिस ने दो आरोपियों को गिर​फ्तार कर लिया है। इनके ​साथियों के बारे में इनसे पूछताछ की जा रही है।

कुछ दिन पहले नौचंदी थाने का दरोगा शास्त्रीनगर में रहने वाले मुजम्मिल के घर पहुंचा और उनके द्वारा कोर्ट में जमानत देने के बारे में पूछताछ की। उन्होंने कोर्ट में किसी की भी जमानत दिए जाने से इनकार कर दिया तो दरोगा ने जांच शुरू की। दारोगा ने कागजात दिखाए तो पता उनका था, लेकिन फोटो किसी और का था। इसकी शिकायत मुजम्मिल ने एसपी क्राइम रामअर्ज से की थी। मुजम्मिल ने बताया कि कुछ दिन पहले उन्होंने सराय खैरनगर निवासी शहजाद और रिजवान को लोन के लिए कागजात दिए थे। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस की पूछताछ में दोनों ने बताया कि लोन और जमानत के लिए वे फर्जी कागजात तैयार करते थे। लैपटाप पर फोटोशाप की मदद से इस काम को अंजाम दे रहे हैं। उनके पास से दो मोबाइल, एक आधार कार्ड और करीब डेढ़ हजार रुपये भी बरामद हुए। नौचंदी थाने में दोनों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है।

दोनों ने बताया कि लोगों से लोन कराने के नाम पर आधार कार्ड, पैन कार्ड और प्रापर्टी के कागजात ले लेते थे। इसके बाद साफ्टवेयर की मदद से अपना या फिर किसी और का फोटो लगा लेते थे। फर्जी कागजातों की मदद से लोन, जमानत और सिम भी ले लेते हैं। मुजम्मिल के नाम पर भी कई खातों का पता चला है, जिन्हें बंद कराया जा रहा है। एक अन्य व्यक्ति इकरामुद्दीन के नाम पर सिम भी ले चुके हैं। आठवीं और नवीं पास दोनों आरोपी पढ़े-लिखे ​लोगों के साथ ठगी कर रहे थे।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here