meerut: सुभारती मेडिकल कॉलेज में रेमडीसीवर इंजेक्शन की कालाबाजारी का खुलासा, वार्ड बॅाय सहित आठ कर्मचारी गिरफ्तार

कोरोना मरीजों को पानी के इंजेक्शन देने का भी आरोप, पुलिस पूरे स्कैंडल की जांच में जुटी

0
39

meerut:( Rimdesivir) रेमडीसीवर के जिस इंजेक्शन के लिए पूरे प्रदेश में हाहाकार मचा हुआ है। वही इंजेक्शन सुभारती मेडिकल कॉलेज में 25 हजार रुपये में ब्लैक में बेचा जा रहा था। पुलिस को मामले की जानकारी मिली तो जिले की सर्विलांस टीम ने ग्राहक बनकर हॉस्पिटल के स्टाफ से संपर्क करते हुए पूरे मामले का पर्दाफाश कर दिया। पुलिस ने हॉस्पिटल के कोविड वार्ड में तैनात वार्ड बॉय सहित आठ कर्मचारियों को गिरफ्तार किया है। सभी के खिलाफ गंभीर धाराओं में मुकदमा दर्ज कर जेल भेजने की कार्रवाई की जी रही है।

पानी के इंजेक्शन देने का आरोप

दबी जुबान से अस्पताल के अन्य स्टाफ ने बताया कि आरोपी( Rimdesivir) के स्थान पर covd मरीज को पानी का इंजेक्शन लगा देते थे। जिससे कई मरीजों की जान तक जोखिम में आ गई। सामने तो ये बात भी आई है इस लापरवाही की वजह से कई मरीजों की जान तक जा चुकी है। हालाकि अस्पताल ने इस तरह की बातों को पूरी तरह से नकार दिया है। ऐसे में एक सवाल जरुर खड़ा होता है, हॅास्पिटल के स्टाफ पर मरीज के परिजन पूरा भरोसा करके उनके हवाले अपने घर के सदस्यों कर देते हैं। पैसों के लालच में आकर इस तहर का घिनौना काम करने में उन्हे जरा भी डर नहीं लगता।

इंस्पेक्टर जानी के मुताबिक इस मामले में कुल आठ व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। जिनमें रोहटा नर्सिंग स्टाफ अंकित शर्मा, सिसौला कलां निवासी नर्सिंग स्टाफ आबिद खान, लखवाया निवासी बाउंसर रहीस, फलावदा निवासी बाउंसर गौरव कुमार, बहादरपुर निवासी बाउंसर अमित कुमार, बागपत निवासी बाउंसर रोहित कुमार, बुलंदशहर निवासी बाउंसर महेंद्र सिंह और गुलावठी निवासी बाउंसर अनिल कुमार शामिल हैं।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here