Meerut Metro 80 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से कराएगी शहर का सफर, जानिए क्या-क्या होगा खास

मेरठ से दिल्ली तक चलने वाली रैपिड रेल प्रोजेक्ट पर काम चल रहा है। इसी बीच मेरठ मेट्रो को चलाने की तैयारी शुरू हो गई है। मेरठ मेट्रो 2025 तक चलेगी। शहर में इसके 12 स्टेशन होंगे।

0
378

मेरठ। रैपिड रेल (Rapid Rail) पर ​निर्माण कार्य शुरू होने के बाद अब मेरठ मेट्रो (Meerut Metro) की बारी है। मेरठ मेट्रो के शहर में बारह स्टेशन (Meerut Metro 12 Station) होगी और 80 किलोमीटर प्रति घंटा के हिसाब से लोगों को सफर तय कराएगी। मेरठ मेट्रो गाजियाबाद (Ghaziabad) या दिल्ली (Delhi) नहीं जाएगी। बल्कि भूड़बराल से लेकर मोदीपुरम तक चलेगी। ​इनमें से रैपिड रेल के चार स्टेशनों पर भी पहुंचेगी। इससे शहर की ट्रैफिक व्यवस्था (Meerut Traffic) में राहत मिलेगी तो लोगों का सफर भी सुहाना और सुगम हो जाएगा। इसको लेकर प्रोजेक्ट तैयार कर लिया गया है। 2025 तक मेरठ मेट्रो लोगों के बीच में होगी।

अभी इसका डिजाइन लोगों तक नहीं पहुंचा, लेकिन यह भी लगभग रैपिड रेल की तरह दिखेगी। इसमें सिर्फ तीन डिब्बे होंगे। इसके डिब्बों के अंदर की स्थिति दिल्ली मेट्रो की तरह रहेगी। यह भी रैपिड रेल के साथ ही 2025 में उसी कारिडोर पर चलने लगेगी। ये हैं मेरठ के 12 स्टेशन मेरठ साउथ (भूड़बराल), परतापुर, रिठानी, शताब्दी नगर, ब्रह्मपुरी ट्रांसपोर्ट नगर, मेरठ सेंट्रल एचआरएस चौक, भैंसाली, बेगमपुल, एमईएस, डोरली, मेरठ नार्थ मोदीपुरम होंगे।

मेरठ मेट्रो से तीन गुना ज्यादा रैपिड रेल की स्पीड होगी, इसलिए उसे हर स्टेशन पर रोका नहीं जा सकता। रैपिड रेल का मकसद शहर से शहर को जोडऩा है न कि शहर के अंदर के बाजारों को। दिल्ली व गाजियाबाद जाने वाले वालों के लिए रैपिड रेल मुफीद रहेगी। यह मोदीपुरम, बेगमपुल, शताब्दीनगर व मेरठ साउथ स्टेशन पर ही रुकेगी। हालांकि इन चार स्टेशनों पर मेरठ की मेट्रो भी रुकेगी। मेरठ मेट्रो का संचालन सिर्फ मेरठ साउथ स्टेशन से मोदीपुरम तक होगा। यह गाजियाबाद या दिल्ली नहीं जाएगी।

Google search engine

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here